भोपाल, नईदुनिया। सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय के सामने पार्क में अधिकारियों और कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई। शिवराज ने कहा कि भारत अब सन् 1962 का भारत नहीं है। आज का भारत चीनी सेना को वापस लौटने पर मजबूर कर सकता है। भारत की एकता को खंडित करने के प्रयासों को मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भारत का वर्तमान स्वरूप सरदार वल्लभ भाई पटेल के अथक प्रयासों का परिणाम है। उन्होंने पांच सौ रियासतों को भारत में शामिल करने में अविस्मरणीय योगदान दिया। शिवराज ने कहा कि यदि तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जम्मू-कश्मीर का मामला भी सरदार पटेल को सौंप देते तो आज पाक अधिकृत कश्मीर भारत का हिस्सा होता।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरदार पटेल ने भोपाल, हैदराबाद और जूनागढ़ की रियासतों को भी भारत में विलय होने के लिए मजबूर किया। इस दौरान सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग, महापौर आलोक शर्मा, विधायक रामेश्वर शर्मा और सुरेंद्रनाथ सिंह समेत कई अधिकारी-कर्मचारी और विद्यार्थी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप