नई दिल्ली [जाब्यू]। हैदराबाद धमाकों और पाकिस्तानी आतंकी संगठनों की हमले की धमकियों के मद्देनजर केंद्र सरकार ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई है। गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे द्वारा 15 अप्रैल को बुलाई गई इस बैठक में मुख्यमंत्रियों को केंद्रीय खुफिया एजेंसियों की सूचनाओं को गंभीरता से लेकर उन पर उचित कार्रवाई के लिए कहा जाएगा। इसके साथ ही पिछले एक साल से लंबित चल रहे राष्ट्रीय आतंकरोधी केंद्र [एनसीटीसी] पर मुख्यमंत्रियों को मनाने की नए सिरे से कोशिश की जाएगी।

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय खुफिया एजेंसियों की पूर्व चेतावनी के बावजूद राज्यों में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किया जाना चिंताजनक है। पुणे और हैदराबाद में आतंकी हमले की खुफिया जानकारी के बावजूद राज्य सरकारें उन्हें रोकने में विफल रहीं। मुख्यमंत्रियों की बैठक में इस मुद्दे पर विस्तार से चर्चा होगी और उन्हें राज्य पुलिस को ऐसी सूचनाओं को गंभीरता से लेने के निर्देश देने को कहा जाएगा।

एक दिनी इस बैठक में नक्सली हिंसा, पुलिस सुधार, साइबर क्राइम, मानव तस्करी जैसे आंतरिक सुरक्षा से जुड़े कई अन्य मुद्दों पर भी विचार किया जाएगा। बैठक के एजेंडे को अंतिम रूप दिया जा रहा है और इसे अप्रैल के पहले हफ्ते में राज्य सरकारों को भेज दिया जाएगा। शिंदे के गृह मंत्री बनने के बाद पहली बार हो रही इस बैठक में एनसीटीसी पर मतभेद दूर करने की भी कोशिश होगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप