जागरण टीम, नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण के चलते करीब डेढ़ साल से बंद स्कूल एक बार फिर खुल गए हैं। इस दौरान कई राज्यों में कोरोना से बचने के लिए गाइडलाइन के पालन बात भी कही गई है। क्योंकि डेल्टा वेरिएंट के सामने आने के बाद तीसरी लहर आने का खतरा बना हुआ है। वहीं, दूसरी ओर पंजाब में उत्तराखंड में सिर्फ सरकारी स्कूल खोले गए हैं। निजी स्कूलों ने अभी छात्रों को नहीं बुलाया है। वहीं, झारखंड में छह अगस्त और उत्तर प्रदेश में 16 अगस्त से स्कूलों को खोले जाने की तैयारी है। बता दें कि पिछले साल कोरोना संक्रमण के चलते 24 मार्च को लाकडाउन लगने के बाद से ही स्कूल बंद थे।

नहीं खुले निजी स्कूल, सरकारी स्कूलों में कम रही उपस्थिति

पंजाब सरकार की ओर से सभी कक्षाओं के लिए स्कूल खोलने के लिए जारी किए गए आदेशों के बाद सोमवार को सभी सरकारी स्कूल खुल गए। हालांकि स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति बहुत कम रही। वहीं, प्रदेश में निजी स्कूल सोमवार को भी बंद रहे। इन स्कूलों की ओर से विद्यार्थियों के माता-पिता की सहमति ली जा रही है कि वह अपने बच्चों को स्कूल भेजना चाहते हैं या नहीं। निजी स्कूलों की ओर से यह काम 10 अगस्त तक पूरा कर लिए जाने की संभावना है। इसके बाद ही स्कूल खोलने का फैसला लिया जाएगा। जालंधर में कुछ स्कूलों में बच्चों को हार पहनाकर उनका स्वागत किया गया।

उत्तराखंड में खुले 9वीं से 12वीं तक के स्कूल

 सोमवार दो अगस्त को उत्तराखंड में 9वीं से 12वीं कक्षा तक के लिए इस शैक्षणिक सत्र में स्कूल खुल गए। पहले दिन सभी सरकारी स्कूल तो खुल गए, लेकिन राजधानी समेत अन्य शहरों में निजी स्कूलों ने अभी बच्चों को नहीं बुलाया है। कुछ निजी स्कूल इस हफ्ते तो कुछ अगले हफ्ते तक बच्चों को स्कूल बुलाने की तैयारी में हैं। वहीं, आवासीय स्कूलों को खुलने में डेढ़ से दो हफ्ते तक का समय लग सकता है। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए गेट पर छात्र-छात्राओं को मास्क के साथ थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजेशन के बाद ही स्कूल में प्रवेश दिया गया। वहीं, स्कूलों में छुट्टी के बाद भी सैनिटाइजेशन किया गया। उधर, प्रदेश के अशासकीय स्कूल सैनिटाइजेशन के लिए बजट की मांग कर रहे हैं।

झारखंड में आठवीं कक्षा से ऊपर के छात्रों के लिए छह अगस्त से खुलेंगे स्कूल

झारखंड सरकार ने छह अगस्त से कक्षा नौ से कक्षा 12 तक के छात्रों के लिए स्कूल खोलने की घोषणा की है। इन कक्षाओं के अलावा कालेजों और विश्वविद्यालयों को भी स्नातक तथा स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं की आफलाइन कक्षाएं शुरू करने की अनुमति दी गई है। आइटीआइ, पालीटेक्निक कालेज और कौशल विकास केंद्र भी छह अगस्त से खोल दिए जाएंगे।

झारखंड में वैक्सीन की पहली डोज अनिवार्य

झारखंड सरकार ने कक्षाओं में शामिल होने के लिए 18 वर्ष या इससे अधिक आयु के छात्र-छात्राओं के लिए कम से कम वैक्सीन की पहली डोज लेना अनिवार्य किया है। वहीं, शिक्षकों के लिए दोनों डोज लेना अनिवार्य है। स्कूल-कालेज खुलने के बाद जिला प्रशासन समय-समय पर कालेजों शिक्षकों, छात्र-छात्राओं और अन्य स्टाफ की कोरोना जांच करेगा, ताकि संक्रमण की समय पर पहचान की जा सके।

छत्‍तीसगढ़ के स्‍कूलों के लिए भी गाइडलाइंस जारी

छत्‍तीसगढ में कक्षा 11 और 12 के छात्रों को आज से स्‍कूल बुलाया जा रहा है। अभी 50 फीसद उपस्थिति की ही अनुमति है। स्‍कूल केवल उन्‍हीं जिलों में खुलेंगे जहां पिछले हफ्ते भर से पॉजिटिविटी रेट 1 फीसद से कम है। छात्रों को एक दिन के अंतराल पर बुलाया जाएगा। फिजिकल क्‍लासेज अनिवार्य नहीं हैं। बुखार, सर्दी, खांसी जैसे लक्षणों वाले छात्रों को कक्षा में नहीं बैठने दिया जाएगा।

ओडिशा में पिछले हफ्ते ही खुल चुके हैं स्कूल

ओडिशा में 26 जुलाई से ही 10वीं से 12वीं तक की कक्षाएं शुरू हो गई है। यहां 10 बजे से एक बजे तक कक्षाएं चल रही हैं। यहां स्कूलों को कक्षा शुरू होने से पहले सैनिटाइज किया जा रहा है। इसके साथ ही छात्रों व शिक्षकों की कोरोना जांच कराई गई है।

जानें- उत्तर प्रदेश में कब से खुल रहे हैं स्कूल

कोरोना पर नियंत्रण को देखते हुए राज्‍य सरकार शिक्षण संस्‍थानों में पठन पाठन शुरू करने जा रही है। मुख्‍यमंत्री आदित्‍यनाथ ने शिक्षण संस्‍थानों को शुरू करने की तैयारी के निर्देश अफसरों को दिए हैं। पहले चरण में माध्‍यमिक और उच्‍च शिक्षा के स्‍कूल कालेज खोले जाएंगे। प्रदेश में 5 अगस्‍त से स्‍नातक में दाखिले की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों में 1 सितंबर से और माध्‍यमिक स्‍कूलों में 16 अगस्‍त से पढ़ाई शुरू की जाएगी। परिषदीय स्‍कूलों में सफाई और सेनिटाइजेशन के साथ स्‍कूलों को तैयार किया जा रहा है। शिक्षण संस्थानों में नए सत्र की शुरुआत कोविड प्रोटोकाल के साथ होगी। पहले चरण में 50 फीसद संख्‍या के साथ कक्षाएं शुरू की जाएंगी । 

Edited By: Sanjeev Tiwari