जमशेदपुर। शनिवार की दोपहर करीब ढाई बजे चलती बस में कुछ छात्राओं के साथ सरेआम छेडख़ानी होती रही और लोग देखते रहे। यहां तक कि चालक भी उनकी बातों को अनसुना करते हुए गाड़ी चलाता रहा। नतीजा हुआ कि दो छात्रा अपनी आबरू बचाने के लिए बस से कूद गई। इसमें एक को गंभीर हालत में एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया।
जानकारी के अनुसार साकची स्थित एक स्कूल की छुट्टी होने के बाद कुछ छात्राएं सुपर स्टार नामक बस से वापस घर लौट रही थी। इसी दौरान बस में पहले से सवार कुछ युवक छात्राओं के साथ छेडख़ानी करने लगे। इससे परेशान छात्राओं ने बस रुकवाने का प्रयास किया, इसके लिए चालक को कई बार आवाज भी लगाई, लेकिन चालक उनकी आवाज अनसुना कर गाड़ी चलाता रहा। इधर बस में सवार लड़कों की छेड़खानी बढ़ती रही और नतीजा हुआ कि साकची स्थित हाथी घोड़ा मंदिर के समीप चलती बस से दो छात्राएं कूद गईं। इसके बाद स्थानीय लोगों ने एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया।
छात्राओं की मां के बयान पर साकची थाना में बस मालिक के खिलाफ मामला दर्ज काया गया है। बस को जब्त कर लिया गया है। मिनी बस संचालक ड्राइवर, खलासी और कंडक्टर को कायदे में रहने की हिदायदत दी गई है। फिलहाल बस मालिक व कर्मचारी भी फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।
चालक के पास बैठे थे सभी आरोपी
घायल छात्राओं को मानगो निवासी अरविंदो घोष, शंकोसाई निवासी दीपक कुमार सहित अन्य लोगों ने एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया। दीपक ने बताया कि वह भी उसी बस के सबसे पिछली सीट पर बैठकर वापस घर लौट रहा था। बस चालक के समीप तीन-चार युवक बैठे थे। वह छात्राओं को अश्लील फाब्तियां कस रहे थे, छात्राओं ने इसका विरोध भी किया, लेकिन वह नहीं माने और भी खुलेआम अपशब्द बोलने लगे। इससे तंग आकर छात्राओं ने बस से उतरने की कोशिश की, लेकिन बस नहीं रुकने के कारण उन्होंने छलांग लगा दी। इसके बाद बस भी रुकी, लेकिन आरोपी को किसी ने पकडऩे की कोशिश नहीं की। जब भीड़ बढऩे लगी तो चालक गाड़ी लेकर चलता बना और उसपर सवार आरोपी भी फरार हो गए।
अस्पताल में जुटे परिजन, किया विरोध
घटना की खबर सुनकर छात्राओं के परिजन आनन-फानन एमजीएम अस्पताल पहुंचे। उनके साथ पड़ोसी भी थे। आक्रोशित परिजनों ने इसका विरोध करते हुए बस चालक व आरोपियों पर उचित कार्रवाई करने की मांग की। साथ ही सरकार से सुरक्षा से गुहार लगाई।

Posted By: Gunateet Ojha