नई दिल्ली, एएनआइ। सुप्रीम कोर्ट ने सांसद और विधायकों के मामलों की सुनवाई करने के लिए विशेष कोर्ट की मंजूरी दे दी है। कोर्ट ने गुरुवार को भाजपा नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय द्वारा दायर याचिका में पूर्व सांसद अतीक अहमद प्रत्यारोपण आवेदन (Impleadment Application) करने की अनुमति दे दी है।

बहुजन समाज पार्टी के विधायक की हत्या का है आरोप

अतीक अहमद साल 2004 से समाजवादी पार्टी से सांसद था। उस पर साल 2005 में बहुजन समाज पार्टी के विधायक राजू पाल की हत्या का आरोप है। इनका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था। इस वीडियो में अतीक अहमद और उनके लोगों ने दिसंबर 2016 में सैम हिगिनबॉटम यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर टैक्नोलॉजी एंड साइंसेज की एक परीक्षा में धोखाधड़ी करने वाले दो छात्रों के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर स्टाफ सदस्यों पर कथित रुप से हमला किया था। इसके बाद अतीक को गिरफ्तार किया गया था।

देवरिया से गुजरात किया था शिफ्ट

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अतीक अहमद की पुनर्विचार याचिका सुनने से इनकार कर दिया था। कोर्ट ने अतीक अहमत को देवरिया जेल से गुजरात की उच्च सुरक्षा वाली जेल में शिफ्ट कर दिया था।

अतीक अहमद के बेट पर भी कसा शिकंजा

बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद के साथ उनके बेटे मोहम्मद उमर पर भी सीबीआई का शिकंजा कसता जा रहा है। सीबीआई ने मोहम्मद उमर को भगोड़ा घोषित करते हुए उस पर दो लाख का इनाम घोषित कर दिया था। सीबीआइ की ओर से अभियुक्त मोहम्मद उमर की तलाश को लेकर पोस्टर भी जारी कर दिया गए हैं। पोस्टर प्रयागराज के साथ ही लखनऊ और दिल्ली में भी लगाए गए हैं।

सीबीआइ देवरिया जेल में लखनऊ के कारोबारी मोहित जायसवाल की पिटाई के मामले में मोहम्मद उमर की तलाश कर रही है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है।

 

Posted By: Pooja Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस