नईदुनिया, मुरैना। मध्य प्रदेश के मुरैना में वन जांच नाके पर डिप्टी रेंजर की हत्या के बाद मंगलवार को हुई बैठक में तय किया गया कि रेत के अवैध खनन और परिवहन में लिप्त लोगों के नाम वोटर लिस्ट सें हटाए जाएंगे। इसके बाद ये लोग कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।

कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि सात सितंबर को डिप्टी रेंजर की हत्या के बाद मंगलवार को टास्क फोर्स के सभी अधिकारियों की बैठक बुलाई गई थी। इसमें पुलिस अधीक्षक ने करीब 50 ऐसे लोगों के नाम सामने रखे, जो रेत खनन और अपराधों में लिप्त थे और इनके पास शस्त्र लाइसेंस भी थे।

सभी के हथियार लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं। यादव ने बताया कि पुलिस और वन विभाग के रिकॉर्ड में खननकर्ताओं के नाम दर्ज हैं। प्रशासन इन लोगों के नाम वोटर लिस्ट से हटवा रहा है। इसके बाद ये लोग वोट डालने और कोई भी चुनाव लड़ने से वंचित हो जाएंगे।

Posted By: Ravindra Pratap Sing