नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय राज्य मंत्री (एमओएस) अजय मिश्रा टेनी को केंद्रीय मंत्रिमंडल से हटाने की मांग को लेकर किसान संगठनों का छह घंटे का राष्ट्रव्यापी 'रेल रोको' आंदोलन जारी है। सोमवार सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक किसान संगठनों का यह आंदोलन चलेगा। इस प्रदर्शन से यूपी, पंजाब और हरियाणा में ट्रेनों की आवाजाही बाधित हुई जिससे यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। रेलवे के सीपीआरओ ने कहा है कि आंदोलन की वजह से उत्तर रेलवे जोन में 30 स्थान प्रभावित हुए हैं। वहीं, लखनऊ पुलिस ने चेतावनी दी है कि किसान संगठन के 'रेल रोको आंदोलन' में हिस्सा लेने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में उनके बेटे आशीष मिश्रा टेनी को गिरफ्तार किया गया है।

Kisan Rail Roko Andolan Live Updates:

रेल यात्रा नहीं हुई बाधित

उत्तर प्रदेश के एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि महत्वपूर्ण और संवेदनशील जिलों में बाहर से भी अधिकारी भेजे गए हैं जो लगातार किसान संगठनों और अन्य नेताओं से बात कर रहे हैं। कहीं भी रेल यातायात बाधित नहीं है, कुछ जगहों पर जब ट्रेन नहीं जा रही थी तो किसानों ने प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन किया। एतियातन लगभग 160 कंपनी पीएससी और 9 कंपनी पैरामिलेट्री लगाई गई हैं।

ट्रेनों पर कोई अशर नहीं

किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन पर रेलवे के DCP हरेंद्र सिंह ने कहा कि अभी तक हमें कहीं भी किसी भी ट्रैक पर बाधा होने और ट्रेन कैंसिल होने की जानकारी नहीं है। हम पड़ोसी राज्यों की जीआरपी और आरपीएफ के साथ मिलकर काम कर रहे हैं, अगर वहां कोई दिक्कत आए तो हम दिल्ली में उसके लिए तैयार रहे।

मोदी नगर में प्रदर्शनकारियों ने मालगाड़ी रोकी

उत्तर प्रदेश के मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर सोमवार को आंदोलन कर रहे किसानों ने रेल यातायात रोक दिया। सैकड़ों किसान ट्रेनों और मालगाड़ियों की आवाजाही को रोकने के लिए पटरियों पर बैठ गए। गाजियाबाद जिले के चार थानों के सुरक्षा बलों को मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर प्रांतीय सशस्त्र पुलिस (पीएसी) की एक कंपनी के साथ तैनात किया गया है।

पंजाब में यात्रियों को हो रही परेशानी

किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन की वजह से यात्रियों को काफि परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। चंडीगढ़ जाने वाली ट्रेन के यात्रियों का कहना है कि रेल रोको आंदोलन के कारण एसएएस नगर जिले की डेरा बस्सी तहसील के दप्पर स्टेशन पर ट्रेन को रोके जाने से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

हरियाणा के बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पर बीएसएफ तैनात

किसान संघों द्वारा बुलाए गए रेल रोको आंदोलन के मद्देनजर, हरियाणा के बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पर सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को तैनात किया गया है। बहादुरगढ़ के पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) पवन शर्मा ने कहा, 'किसान संघों ने आज सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक रेल रोको विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है। इसलिए, हमने यहां सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। बीएसएफ यहां भी है। हम परिस्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं।

सरकार ने हमसे नहीं की कोई बात: राकेश टिकैत

किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन पर भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि रेल रोको आंदोलनअलग-अलग जिलों में अलग-अलग जगह होगा। पूरे देश में वहां के लोगों को पता रहता है ​कि हमें कहां ट्रेन रोकनी है। भारत सरकार ने अभी हमसे कोई बात नहीं की है।

रेलवे स्टेशन पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात

किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन के आह्वान का असर कई राज्यों में देखने को मिल रहा है। अमृतसर के देवीदास पुरा गांव में प्रदर्शनकारी रेलवे ट्रैक पर बैठे है। वहीं, हरियाणा के सोनीपत जंक्शन रेलवे स्टेशन पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किया गया है। प्रदर्शनकारी बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर बैठे है।

प्रदर्शनकारियों को वखनऊ पुलिस की चेतावनी

वहीं, इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस और प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर दिया है। लखनऊ पुलिस ने कहा है कि किसान संगठन के 'रेल रोको आंदोलन' में हिस्सा लेने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी। जिले में 144 सीआरपीसी भी लगाया गया है और अगर कोई सामान्य स्थिति को बाधित करने की कोशिश करता है तो एनएसए लगाया जाएगा।

अजय कुमार मिश्र को मंत्री पद से बर्खास्त करने की मांग

संयुक्त किसान मोर्चा ने रविवार को जारी बयान में कहा कि लखीमपुर खीरी नरसंहार मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र को मंत्री पद से बर्खास्त करके तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की जाएगी, ताकि लखीमपुर खीरी हिंसा में न्याय सुरक्षित किया जा सके। इसके लिए घोषित कार्यक्रम के तहत 18 अक्टूबर को रेल सेवाएं बाधित की जाएंगी। किसान संगठनों की तरफ से कहा गया है कि रेल संपत्ति को बिना क्षति पहुंचाए रेल रोको शांतिपूर्ण रहेगा।

संयुक्त किसान मोर्चा समन्वय समिति के सदस्य बलबीर राजेवाल ने बताया कि अजय मिश्र और उनका बेटा, आशीष मिश्रा लखीमपुर खीरी हत्याकांड का मुख्य आरोपी हैं। इन पर कड़ी कार्रवाई नहीं होने पर रेल रोकी जाएंगी। मोर्चा ने कहा कि उन्होंने अपने भाषणों में हिंदुओं और सिखों के बीच नफरत, दुश्मनी और सांप्रदायिक वैमनस्य को बढ़ावा दिया। उनके वाहनों को शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को कुचलने के लिए इस्तेमाल किया गया था।

बता दें कि लखीमपुर खीरी हिंसा में चार किसानों सहित कुल आठ लोगों की मौत हो गई थी। संयुक्त किसान मोर्चा ने आरोप लगाया था कि एमओएस टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने एक किसान को गोली मार दी थी, जबकि अन्य को उनके वाहनों ने कुचल दिया था। हालांकि, टेनी ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि उनका बेटा घटना स्थल पर मौजूद नहीं था। आशीष ने वही दोहराया और एसकेएम के आरोपों का खंडन किया। मामले में अब तक आशीष मिश्रा समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Edited By: Manish Pandey