तिरुवनंतपुरम, एएनआइ। Sabarimala Row, केरल में सबरीमाला मंदिर में दो महिलाओं के प्रवेश के बाद हुई हिंसा मामले में 3178 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हिंसा के इन मामलों में राज्यभर में 37979 लोगों पर 1286 मामले दर्ज हुए हैं।

उग्र प्रदर्शन में शामिल प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई अब भी जारी है। इसके बावजूद केरल में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। एक बार फिर कन्नूर जिले में हिंसा भड़क गई है। भाजपा नेता के घर पर बम से हमला हुआ है, जबकि आरएसएस के दफ्तर में भी आगजनी हुई हैं। वहीं, सीपीआइ(एम) विधायक के निवास को भी देसी बम से निशाना बनाया गया है।

CPI(M) विधायक के घर देसी बम से हमला
इस बीच कन्नूर जिले में सीपीआइ (एम) विधायक एएन शमसीर के आवास पर कुछ अज्ञात हमलावरों द्वारा देसी बम से हमला करने का मामला सामने आया है, पुलिस इसकी भी जांच कर रही है।

पुलिस ने बताया है, 'विधायक शमसीर के मडप्पेडिका स्थित निवास पर रात करीब 10:15 बजे देसी बम फेंके गए। हमलावर मोटरसाइकल पर आए और बम फेंककर भाग गए।

भाजपा सांसद के घर भी बम से हमला
उधर, भाजरा नेता और राज्यसभा सांसद वी मुरलीधरन के घर पर भी आधीर रात को बम फेंकने का मामला सामने आया है। पुलिस ने बताया कि अज्ञात लोग सांसद के घर देसी बम फेंककर फरार हो गए। सीपीआइ(एम) विधायक के घर बम से हमले के कुछ देर बाद यह हमला हुआ। हालांकि हमले में किसी के हताहत होने की कोई सूचना नहीं है। मुरलीधरन ने बताया, 'थालसैरी के पास स्थित पैतृक घर को हमलावरों ने निशाना बनाया, किसी को कोई चोट नहीं आई है।' उन्होंने बताया कि जिस वक्त यह हमला हुआ, मेरी बहन, बहनोई और उनकी बेटी घर में मौजूद थे।

संघ के दफ्तर को फूंका
इस बीच आरएसएस को भी निशाया बनाया गया है। जहां परियारम में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के दफ्तर में कुछ अज्ञात हमलवारों ने आग के हवाले कर दिया। संघ के वरिष्ठ नेता चंद्रशेखरन के घर पर भी हमला हुआ है।

कन्नूर में 110 लोग गिरफ्तार
केरल के डीजीपी लोकनाथ बेहेरा ने बताया, 'कन्नूर जिले में शुक्रवार रात हुई हिंसा के मामले में 33 लोगों को हिरासत में लिया गया है। वहीं, पाठानामठित्ता जिले में हुई हिंसा मामले में 76 केस दर्ज किए गए हैं, 25 लोगों को रिमांड पर लिया गया है, जबकि 204 लोगों को हिरासत में लिया गया। हिंसा मामले में कुल 110 लोगों को गिरफ्तार किया है।'

दो महिलाओं के मंदिर में प्रवेश में बाद स्थिति तनावपूर्ण
मंदिर में दो महिलाओं के प्रवेश के बाद से राज्य में लगातार स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है, जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हुआ। कई इलाकों में उग्र प्रदर्शन भी देखने को मिला। गुरुवार को सबरीमाला कर्म समिति के नेतृत्व में कई हिंदू संगठनों ने राज्य में हड़ताल बुलाई। दुर्भाग्यपूर्ण इस हड़ताल ने उग्र रूप ले लिया और जगह-जगह पत्थरबाजी, आगजनी की घटनाएं देखने को मिली। इस हिंसा में 55 वर्षीय चंद्रन उन्नीथन की मौत हो गई, जबकि कई लोग घायल हो गए।

डेढ़ हजार से ज्यादा लोगों की होे चुकी गिरफ्तारी 
गौरतलब है कि हिंसा के 801 मामलों में पुलिस डेढ़ हजार से भी ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, जबकि 717 अन्य लोग नजरबंद हैं। इस बीच कांग्रेस और भाजपा भी राज्य सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर आए हैं। उन्होंने दो महिलाएं के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश की मंशा पर भी सवाल उठाए।

Posted By: Nancy Bajpai

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस