नई दिल्ली, एजेंसियां: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने स्वतंत्रता दिवस से पहले शुक्रवार को अपने इंटरनेट मीडिया अकाउंट्स की प्रोफाइल में अपने पारंपरिक भगवा झंडे के स्थान पर तिरंगे का चित्र लगा दिया। कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल राष्ट्र ध्वज के प्रति संघ के रुख को लेकर उसकी आलोचना करते रहे हैं।

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने इस महीने की शुरुआत में सवाल किया था कि क्या नागपुर में अपने मुख्यालय पर 52 साल तक राष्ट्र ध्वज नहीं फहराने वाला संगठन अपने इंटरनेट मीडिया अकाउंट्स की प्रोफाइल पर तिरंगा लगाने के प्रधानमंत्री के आग्रह को मानेगा। आरएसएस प्रचार विभाग के सह प्रभारी नरेंद्र ठाकुर ने शुक्रवार को कहा कि संघ अपने सभी कार्यालयों में राष्ट्र ध्वज फहराकर स्वतंत्रता दिवस मनाता आ रहा है।

संघ ने अपने इंटरनेट मीडिया अकाउंट्स की अपनी प्रोफाइल पर अपने संगठन के झंडे को हटाकर राष्ट्र ध्वज लगाया है। ठाकुर ने कहा कि आरएसएस कार्यकर्ता 'हर घर तिरंगा' मुहिम में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं। इससे पहले, आरएसएस के प्रचार विभाग के प्रमुख सुनील आंबेकर ने कहा था कि इस तरह की चीजों का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। आरएसएस 'हर घर तिरंगा' और 'आजादी का अमृत महोत्सव' कार्यक्रमों को पहले ही अपना समर्थन दे चुका है।

आपको बता दें, केंद्र सरकार ने अपने 'हर घर तिरंगा' कार्यक्रम के तहत 13-15 अगस्त के दौरान लोगों से अपने घरों से राष्ट्रीय ध्वज फहराने का आग्रह किया है। इससे पहले आरएसएस के प्रचार विभाग के प्रमुख सुनील आंबेकर ने कहा था कि इस तरह की चीजों का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। आरएसएस पहले ही 'हर घर तिरंगा' और 'आजादी का अमृत महोत्सव' कार्यक्रमों को अपना समर्थन दे चुका है। आंबेकर ने कहा था कि संघ ने जुलाई में सरकार, निजी निकायों और संघ से जुड़े संगठनों द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों में लोगों और स्वयंसेवकों के पूर्ण समर्थन और भागीदारी की अपील की थी।

Edited By: Amit Singh