भिवंडी (ठाणे), प्रेट्र। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) मानहानि मामले में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को महाराष्ट्र की भिवंडी मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश हुए। कोर्ट ने उनका बयान दर्ज करने के लिए तीन मार्च की तारीख तय करते हुए सुनवाई स्थगित कर दी।

मजिस्ट्रेट तुषार वाजे ने अपने आदेश में कहा, 'राहुल का बयान दर्ज करने के लिए तीन मार्च की तिथि तय की जाती है।' कोर्ट से बाहर राहुल ने मीडिया से कहा, 'मैं उस विचारधारा को खत्म करना चाहता हूं, जिसने महात्मा गांधी की हत्या की।'

संघ कार्यकर्ता राजेश कुंटे ने कांग्रेस उपाध्यक्ष के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। कुंटे के अनुसार, राहुल ने छह मार्च, 2014 को एक रैली में संघ पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को मारने का आरोप लगाया था। सुनवाई टलने से पहले राहुल के वकील अशोक मुंडेरगी और नारायण अय्यर ने कोर्ट को बताया कि जिस समाचार पत्र में कांग्रेस उपाध्यक्ष की खबर छपी थी, हमें उसकी पूरी प्रति नहीं बल्कि सिर्फ कटिंग ही मिली है।

यह है मामला

राहुल ने चुनाव प्रचार के दौरान अपने भाषण में महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया था। इस बयान के विरोध में कई जगह उनके खिलाफ याचिकाएं दायर हुईं हैं। विवाद बढ़ने पर कांग्रेस ने कहा था कि राहुल आरएसएस के खिलाफ दिए गए बयान को लेकर माफी नहीं मांगेंगे। वह अपने दावे को साबित करने के लिए कोर्ट में ऐतिहासिक तथ्य और सुबूत पेश करेंगे।

यह भी पढ़ें: अखिलेश के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में कई सवालों पर राहुल ने साधी चुप्पी

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस