पलक्कड़, एएनआइ। केरल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) का स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर भी विरोध देखने को मिला। स्वतंत्रता दिवस के दिन आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को केरल के एक स्‍कूल में प्रशासन ने तिरंगा फहराने से रोक दिया। हालांकि बाद में उन्‍हीं के हाथों तिरंगा फहरा कर स्‍वतंत्रता दिवस के समारोह की शुरुआत स्‍कूल प्रशासन ने की।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख, डॉक्‍टर मनमोहन वैद्य ने इसपर आपत्‍ति जतायी और कहा, ‘हम केरल के सीपीआई-एम की अगुवाई वाली सरकार द्वारा ऐसी गलत कार्रवाइयों की निंदा करते हैं जो स्वतंत्रता दिवस मनाए जाने के मूल नागरिक अधिकारों का हनन करता है।‘


मामला केरल के पलक्कड़ में एक स्कूल का है, जहां जिला प्रशासन ने उन्हें तिरंगा फहराने से रोक दिया। कलेक्टर ने स्कूल को एक मेमो जारी कर कहा कि कोई नेता सरकार से सहायता प्राप्त स्कूल में भारतीय ध्वज नहीं फहरा सकता है। कलेक्टर ने कहा कि स्कूल में कोई शिक्षक या निर्वाचित प्रतिनिधि ही तिरंगा फहरा सकता है।

लेकिन भाजपा ने कलेक्टर के इस आदेश को गैर-जरूरी बताया और आदेश को चुनौती देते हुए कहा कि भागवत झंडा फहराएंगे। भाजपा और आरएसएस का कहना है कि झंडा कोड के मुताबिक, स्वतंत्रता दिवस पर कोई भी स्कूल में ध्वजारोहण कर सकता है। बता दें कि यह स्कूल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्थक चलाते हैं।

यह भी पढ़ें: आरएसएस ने दोहराया अखंड भारत का संकल्प

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021