महाराष्ट्र, एएनआइ। दीवाली के एक दिन बाद ही भाई दूज (Bhai Dooj festival) मनाने की खुशी सभी भाई-बहनों के चेहरे पर होती है, लेकिन ये खुशी मुंबई की एक महिला के चेहरे से गायब हो गई। दरअसल, 29 अक्टूबर को 40 वर्षीय महिला अपने पति के साथ भाई दूज मनाने के लिए अपने भाई के घर जा रही थी। ट्रेन से सफर करने के दौरान उसका पर्स दादर टर्मनिल रत्नागिरी स्टेशन (Dadar Terminal Ratnagiri) पर छूट गया। घबराई हुई महिला तुरंत स्टेशन पर आई जहां पर उनका पर्स उन्हें मिल गया और उनके चेहरे पर खुशी की चमक दिखने लगी।

पर्स से मिला लाखों का सामान

रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स दादर (Railway Protection Force)ने  छानबीन करने के बाद उसका पर्स लौटा दिया। इस पर्स में मोबाइल फोन,केश, ज्वैलरी और 3,50,000 रुपये थे। मिली जानकारी के मुताबिक, पर्स में एक नोकिया का मोबाइल फोन, एक समसंग फोन, केश, 6 गोल्ड रिंग, एक गले का नेकलेस, 2 गोल्ड के मंगलसूत्र और दो गोल्ड के एयरिंग मिले हैं। महिला ने अपने पर्स के वापस मिलने के बाद अधिकारी को शुक्रिया अदा किया। 

रत्नागिरी की हैं महिला

महिला का नाम मीनल है, जो मुंबई में रत्नागिरी में रहती हैं। जैसे ही मीनल को महसूस हुआ की उसका पर्स उसके पास से गायब हो गया है तो वह तुरंत स्टेशन पर जा पहुंची। जहां पर मौजूद अधिकारी विनित कुमार ने सभी जरुरी जांच करने के बाद उनका पर्स उन्हें सौप दिया। 

आम तौर आप भी जब बस और ट्रेनों में सफर करते हैं तो पर्स छूटने या चोरी की घटनाएं देखने को मिलती रहती है। खुशी जब होती है जब बस कर्मचारी या रेलवे अधिकारी ऐसे लोगों के खोए हुए पर्सों को खोजने में पूरा सहयोग करते हैं। मुंबई ट्रेन में इस महिला का पर्स खोज निकाल कर वापस करना सराहनीय कदम है।

यह भी पढ़ें: ....तो इसलिए दमघोंटू हुई दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा, सांस लेना हुआ मुश्किल

Posted By: Pooja Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप