ग्वालियर, नईदुनिया। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में सेंट्रल जेल से गुरुवार को जिला सत्र न्यायालय में पेशी पर लाए गए आरोपित वीर सिंह जाटव को न्यायाधीश के सामने पेश किया गया। इस दौरान उसने हाथ में बंधी रस्सी ढीली कर ली और कठघरे से कूदकर भाग गया। पुलिस की नाकेबंदी के बावजूद आरोपित फरार है।

डकैती की साजिश रचते हुए हथियार के साथ पकड़े गए वीर सिंह पुत्र रमेश जाटव को पेशी पर लाया गया था। वीर सिंह का नंबर आने पर दोपहर पौने तीन बजे प्रधान आरक्षक महावीर शर्मा व आरक्षक दिनेश शर्मा ने कोर्ट में पेश करने के लिए उसे हवालात से बाहर निकाला और हाथ में रस्सी बांधकर विशेष न्यायाधीश उत्सव चतुर्वदी के समक्ष पेश करने ले गए। पुलिस जवानों ने बंदी को रस्सी सहित कठघरे में खड़ा कर दिया। दोनों जवान कठघरे के पास खड़े रहे।

वीर सिंह ने कठघरे में खड़े-खड़े जवानों की नजर बचाकर हाथ में बंधी रस्सी ढीली कर ली। मौका मिलते ही वह कठघरा कूदकर भाग गया। प्रधान आरक्षक शर्मा व आरक्षक दिनेश शर्मा ने अधिकारियों को बताया कि वीर सिंह को कठघरे में करने के बाद विशेष न्यायाधीश ने दो और आरोपियों को कस्टडी में लेने के निर्देश दिए। दोनों ने कोर्ट के बाबू अरुण गुप्ता से कहा कि और फोर्स बुला लेते हैं, क्योंकि वह पहले से मुलजिम को लिए हुए हैं।

बाबू के दबाव बनाने पर प्रधान आरक्षक नई आमद को हिरासत में लेने के लिए हस्ताक्षर करने चला गया। उस समय सिपाही दिनेश कठघरे के पास खड़ा था। इसी बीच आरोपित भाग गया। मामले में वीर सिंह पर प्रकरण दर्ज कर लिया गया है।

Posted By: Vikas Jangra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप