संजय मिश्र, नई दिल्ली। भारतीय फौज ने पाकिस्तान को सबक सिखाते हुए बेहद सख्त सैन्य कार्रवाई में उसकी कई सैन्य चौकियों और बंकरों को तबाह कर दिया है। नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार पाकिस्तानी चौकियों को तबाह करने की यह कार्रवाई जम्मू-कश्मीर के नौशहरा सेक्टर में अंजाम दी गई। हालांकि, सेना ने इस बार अपनी सीमा के भीतर से ही पाक सैन्य ठिकानों को भेदा। इस कार्रवाई को इसी महीने एक मई को एलओसी पर दो भारतीय सैनिकों से बर्बरता और सिर काटने की पाक की नापाक हरकत का बदला माना जा रहा है। इस ऑपरेशन में पाक के 25-30 सैनिकों के मारे जाने की खबर है।

रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने सेना की कार्रवाई का समर्थन करते हुए कहा कि आतंकवाद और सीमा पार घुसपैठ को रोकने के लिए ऐसी कार्रवाई होती रहेगी। उन्होंने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर में शांति सुनिश्चित करने के लिए ऐसी कार्रवाई जरूरी है।भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सैन्य चौकियों को अपनी जबर्दस्त गोलीबारी से ध्वस्त करने का एलान बाकायदा इसका 24 सेकेंड का एक वीडियो जारी कर किया। सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल एके नरुला ने पाकिस्तान के खिलाफ इस बेहद अहम सैन्य प्रहार का संक्षिप्त ब्योरा देते हुए कहा कि भारतीय सेना ने नौशहरा सेक्टर में की हालिया कार्रवाई में पाक सेना को काफी नुकसान पहुंचाया। आतंकियों को संरक्षण देने और घुसपैठ कराने की पाक सेना की कोशिशों को देखते हुए यह कार्रवाई की गई। हालांकि, सैन्य प्रवक्ता ने इस ऑपरेशन का विस्तृत ब्योरा नहीं दिया। सैन्य सूत्रों के अनुसार, इस कार्रवाई को नौ मई के आस-पास अंजाम दिया गया।

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पहली बार कार्रवाई

पिछले साल 29 सितंबर को हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद हाल के समय में यह पहला मौका है जब सेना ने किसी ऑपरेशन का न केवल खुलेआम एलान किया है, बल्कि उसका वीडियो भी जारी किया है। सेना के इस कदम को एलओसी पर भारत के बदले रणनीतिक कदम का साफ संकेत माना जा रहा है। इस बदली रणनीति के मद्देनजर यह आशंका बढ़ गई है कि एलओसी पर भारत-पाक के बीच संघर्ष व तनाव और बढ़ेगा।

वीडियो में दिखीं दुश्मन की ढहती हुईं चौकियां

सेना की ओर से जारी वीडियो में एलओसी के पार भारतीय सेना की भीषण गोलाबारी साफ दिखाई पड़ रही है। गोलीबारी और धमाके से उठते धुएं के साथ पाक चौकियों के ढांचे के गिरने की झलक भी दिख रही है। सूत्रों के अनुसार, भारतीय सेना की इस जबर्दस्त कारवाई का मकसद साफ तौर पर पाकिस्तान को यह संदेश देना है कि सीमा पर उसकी करतूतों और आतंकियों को घुसपैठ कराने की रणनीति पर भारत अब कठोर से कठोर कदम उठाने में नहीं हिचकेगा।

रॉकेट लांचर, एंटी गाइडेड मिसाइल का इस्तेमाल

सैन्य सूत्रों के मुताबिक, इस ऑपरेशन में भारतीय सेना ने रॉकेट लांचर, एंटी गाइडेड मिसाइल, १०५ एमएम रिकोइल्स गन और 105 एमएम लाइट फिल्ड गन, 130 एमएम गन आदि से एक साथ पाक सैन्य चौकियों पर हमला बोला। सेना की इस कारवाई की वजह से पाक सैनिकों को जवाबी एक्शन के लिए सोचने का वक्त भी नहीं मिला।

आतंकी घुसपैठ की मददगार चौकियां थीं टारगेट

मेजर जनरल नरूला ने कहा कि आंतकवाद विरोधी इस कार्रवाई में दुश्मन के उन सैन्य ठिकानों को खास तौर पर टारगेट किया गया जहां से भारत में आतंकी घुसपैठ कराई जाती है। उनका साफ कहना था कि भारतीय सेना की यह कार्रवाई दंडात्मक एक्शन थी। उन्होंने कहा कि एलओसी पर पाक सैन्य चौकियां आतंकियों को कवच देने के लिए गोलीबारी तो करती ही हैं, वे सीमा के नजदीक गावों को भी निशाना बनाने से बाज नहीं आतीं।

हमेशा की तरह पाक का फिर इन्कार

पाकिस्तान ने भारतीय सेना की एलओसी पार की गई सैन्य कार्रवाई और पाक चौकियों के तबाह होने की बात से इन्कार किया है। पाक सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने भारतीय सेना के दावे को पूरी तरह गलत करार दिया।

यह भी पढें: पत्थरबाज को जीप से बांधने में देरी करता तो कई लाशें गिरी होतींः मेजर गोगोई

यह भी पढें: भारतीय सेना ने लिया बदला, नौशेरा में तबाह की पाकिस्तानी पोस्ट

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस