पुरी, एएनआइ। एक रूसी युवक जो खुद को शिव भक्त बताता है, अपने देश वापस नहीं जाना चाहता है। इस युवक की हिंदू धर्म में आपार श्रद्धा है, इसलिए उसे अपने देश में धमकियां मिलने लगी और उसे भारत आना पड़ा। उसे भिखारियों के साथ बैठकर भजन गाना अच्छा लगता है, लेकिन अब उसे वापस रूस जाना पड़ सकता है। इस युवक का नाम आंद्रेई ग्लेगोलेव हैं लेकिन वो अपना नाम राधे गोबिंदा बताता है। युवक की उम्र 53 वर्ष है। पुरी जिला पर्यटन विभाग को जैसे ही इस युवक के बारें में जानकारी मिली वह सक्रिय हो गया। 

रसियन आंद्रेई ग्लेगोलेव जगन्नाथ मंदिर के बाहर भीख मांगते हुए पाया गया था। 11 दिसंबर को पुरी जिला प्रशासन ने उसे बचाया था और जिसके  बाद उसे शहर में एक आश्रय घर रहने के लिए जगह दी गई थी। अब पुरी पर्यटन विभाग ने युवक को दिल्ली में स्थित रूसी दूतावास भेज दिया है। उसे स्लीपर क्लास में पुरुषोत्तम एक्सप्रेस में बैठाकर नई दिल्ली के लिए रवाना कर दिया गया है।

 

भारत में ही चाहता है रहना

ग्लेगोलेव अपने देश रूस वापस नहीं जाना चाहता था। एजेंसी के मुताबिक वह शरणार्थी की स्थिति के साथ भारत में ही रहना चाहता था। रिपोर्टों के अनुसार, ग्लेगोलेव ने नई दिल्ली में यूएनएचसीआर में भारत में शरणार्थी की तरह रहने के लिए आवेदन किया था।

 

ग्लेगोलेव ने खुद को रूस के बावी इलाके का रहने वाला बताया। उसने कहा था कि 2015 में देश से भागने के लिए मजबूर किया गया था। जब ग्लेगोगोले से अपने देश लौटने की अपनी अनिच्छा के बारे में पूछा गया तो आंद्रेई ने कहा कि, वह भगवान शिव का भक्त है और रूस में भगवान शिव की पूजा करने के बाद उसके परिवार ने घर से बाहर कर दिया था।

हिंदू धर्म के प्रति झुकाव के कारण मिली धमकी

आंद्रेई ने कहा, 'मैं भगवान शिव का भक्त हूं। रूस में कुछ समूहों ने हिंदू धर्म की ओर झुकाव के लिए मेरा विरोध किया। उन्होंने मुझे धमकी थी कि अगर मैंने भगवान शिव की पूजा करना जारी रखी तो उसका परिणाम अच्छा नहीं होगा।

 

भिखारियों के साथ बैठकर गाता हूं भजनः अांद्रेई

आंद्रेई ने आगे बताया कि मैं पुरी आने से पहले अपने वीजा को बढ़ा कर मथुरा में रह रहा था। मैं वहां दो साल रहा। पुरी आने के बाद मेरे पास होटल में रहने के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए मैं रात को रेलवे स्टेशन पर सोता था। यहां मैं भिखारियों के साथ बैठता था और भजन गाता हूं। कुछ उदार भक्तों ने मुझे पैसे और भोजन की पेशकश की।आंद्रेई ने अपने परिवार और व्यवसाय के बारे में बात करने से इनकार कर दिया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पुलिस अधिकारी सोमवार को रूसी नागरिक रूसी दूतावास जाएगा। एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हम उनके बारे में और रूस से उनके पलायन के पीछे सही कारण जानने की कोशिश कर रहे हैं।'

 यह भी पढ़ें: उन्नत तकनीक से कर रहे गाजर की खेती से मालामाल हुए यहां के किसान

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस