नई दिल्ली, मनीष तिवारी। कई प्रथम के कीर्तिमान को समेटे गणतंत्र दिवस की परेड गुरुवार को जब कर्तव्य पथ से निकलेगी तो उसमें स्वदेशी सैन्य शक्ति का गौरव भी होगा, बढ़ती नारी शक्ति का संतोष भी होगा और गणतंत्र में जनभागीदारी का अभूतपूर्व आनंद भी। राजपथ का दौर बीत चुका है, यह कर्तव्य पथ का युग है। पुनर्निर्माण के बाद पहली बार गणतंत्र दिवस की परेड के साक्षी बनने जा रहे कर्तव्य पथ पर साढ़े दस बजे से लगभग डेढ़ घंटे तक देश की सैन्य, सांस्कृतिक, लोकतांत्रिक और राजनीतिक शक्ति की जो झांकी निकलेगी, पूरी दुनिया को दूर तक संदेश देने वाली होगी। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु पद संभालने के बाद अपने पहले गणतंत्र दिवस समारोह में परेड की सलामी लेंगी।

मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होंने मिस्र के राष्ट्रपति

मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतह सिसी गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि हैं। उनके साथ मिस्र का सैन्य दल भी आया है, जो मार्च पास्ट में हिस्सा लेगा। परेड के पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नेशनल वॉर मेमोरियल में देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। सेना पहले ही घोषणा कर चुकी है कि गणतंत्र दिवस की परेड में प्रदर्शित किए जाने वाले उसके सभी उपकऱण स्वदेशी होंगे, जो रक्षा क्षेत्र में भारत की बढ़ती आत्मनिर्भरता का सबसे बड़ा -प्रमाण होंगे। इनमें अर्जुन टैंक, नाग मिसाइल सिस्टम, के-9 वज्र, आकाश एयर डिफेंस सिस्टम शामिल हैं। 21 तोपों की सलामी के लिए भी इस बार स्वदेशी इंडियन फील्ड गन का प्रयोग किया जाएगा।

परेड में होंगे 8 सैन्य दस्ते

आईएफजी पारंपरिक रूप से सलामी के लिए इस्तेमाल होने वाली विंटेज 25 पाउडर गन का स्थान लेंगी। परेड में कुल आठ सैन्य दस्ते होंगे, जिनमें छह सेना के और एक-एक वायुसेना तथा नौसेना के हैं। सेना की ओर से जो टुकड़ियां मार्च करेंगी उनमें एक मेकेनाइज्ड इन्फैंट्री, डोगरा रेजिमेंट, पंजाब रेजिमेंट, मराठा लाइट इन्फैंट्री, बिहार रेजिमेंट और गोरखा बिग्रेड शामिल हैं। इसके अतिरिक्त बीएसएफ का एक कैमेल बैंड भी परेड में नजर आएगा।

सैन्य बलों में महिला शक्ति को नया आयाम देने के लिए परेड का प्रमुख आकर्षण होंगी। डेयर डेविल टीम की ओर से मोटर साइकिल पर हैरत अंगेज स्टंट का प्रदर्शन करने वाली का‌र्प्स ऑफ सिग्नल्स की लेफ्टिनेंट डिंपल भाटी और आकाश एयर डिफेंस के दस्ते का नेतृत्व करने वाली ले. चेतना शर्मा। वायुसेना के दस्ते का नेतृत्व महिला अफसर स्क्वाड्रन लीडर सिंधु रेड्डी करेंगी। नौसेना के दस्ते का भी नेतृत्व ले. कमांडर दिशा अमृत कर रही हैं। वह नेवल एयर आपरेशंस की अधिकारी हैं। एक अन्य महिला अफसर सब ले. वाली मीणा एस तीन प्लाटून कमांडर में शामिल हैं।

Republic Day 2023: हर साल 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस, जानें इसका इतिहास और महत्व

आखिरी बार करतब दिखाएगा टोही विमान

परेड में हमेशा आकर्षण का केंद्र रहने वाली वायुसेना इस बार भी इस समारोह को यादगार बनाने के लिए तैयार है। राफेल और सुखोई समेत लड़ाकू विमानों के करतबों से आसमान जगमगा उठेगा। नौसेना का सबसे पुराना टोही विमान आईएल 38 पहली और आखिरी बार अपने करतब दिखाएगा। लड़ाकू विमानों के फ्लाई पास्ट में इस बार 50 विमान हिस्सा लेंगे। इनमें 23 फाइटर जेट, 18 हेलीकाप्टर, आठ मिलिट्री ट्रांसपोर्ट विमान शामिल हैं। जनभागीदारी पर लगातार जोर दे रही केंद्र सरकार ने इस बार सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के निर्माण में शामिल श्रमिकों और उनके परिवार के लोगों के साथ ही कर्तव्य पथ के रखरखाव में शामिल कर्मियों, सब्जी विक्रेताओं, मिल्क बूथ कर्मियों, दुकानदारों, रिक्शा चालकों को भी परेड देखने के लिए आमंत्रित किया है।

Republic Day Parade: गणतंत्र दिवस परेड से जुड़े कुछ रोचक तथ्य, इसके लिए सैनिक करते हैं सैकड़ों घंटे प्रयास

Republic Day 2023: 74वां गणतंत्र दिवस होगा बेहद खास, परेड में दिखेगा 'मेड इन इंडिया' का जलवा

Edited By: Anurag Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट