नई दिल्ली, एएनआई: पहली बार, गणतंत्र दिवस समारोह में आमंत्रित लोगों की सूची में आटोरिक्शा चालक, श्रमिक, स्वच्छता कार्यकर्ता और फ्रंटलाइन कार्यकर्ता शामिल हैं। रक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक जिन्हें कभी गणतंत्र दिवस समारोह देखने का मौका नहीं मिलता। उन्हें यह अवसर देने का विशेष प्रयास किया गया है। इस वर्ष राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह में सभी वर्गों के लोगों को आमंत्रित किया गया है।

परेड में सीमित लोगों को मिलेगी अनुमति

जानकारी के मुताबिक देश में COVID-19 प्रतिबंधों के कारण, इस साल आगंतुकों की संख्या में काफी कमी की जाएगी। महज पांच हजार से आठ हजार लोगों को अनुमति देने की योजना बनाई जा रही है। लेकिन हमने अभी तक इसे अंतिम रूप नहीं दिया है। पिछले साल गणतंत्र दिवस समारोह में 25हजार दर्शक शामिल हुए थे। बताया जा रहा है कि समारोह में आगंतुकों की सुरक्षा के मद्देनजर, सिर्फ टीकाकरण पूरा करा चुके लोगों को ही अनुमति दी जाएगी। साथ ही समारोह स्थल पर मेहमानों से छह फीट की दूरी बनाए रखने, मास्क पहनने और अन्य कोविड प्रोटोकाल का पालन करने का अनुरोध किया जाएगा। साथ ही सभी मेहमानों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी और चिकित्सा सहायता उपलब्ध होगी।

सभी प्लेटफार्मों पर होगा प्रसारण

रक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि, हम सभी दर्शकों के लिए इंटरनेट, टेलीविजन और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर गणतंत्र दिवस समारोह का प्रसारण करेंगे। हम लोगों को घर से उत्सव का हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। साथ ही मेहमानों के लिए राजपथ के हर तरफ दस बड़ी एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं ताकि कार्यक्रम में लाइव प्रदर्शन को बेहतर तरीके से देखा जा सके। समारोह सुबह 10.30 बजे शुरू होगा जो अपने निर्धारित समय से 30 मिनट की देरी है। फ्लाईपास्ट प्रदर्शन के दौरान बेहतर दृश्यता सुनिश्चित करने के लिए देरी की गई है।

CAPF देगा विशेष प्रस्तुती

वहीं, परेड शुरू होने से पहले केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों का एक बैंड देशभक्ति का माहौल बनाने के लिए प्रदर्शन करेगा। आजादी के 75 साल पूरे होने पर इस साल कुल 75 विमान फ्लाई पास्ट में हिस्सा लेंगे। पहली बार, आगंतुकों को गणतंत्र दिवस पर युद्धाभ्यास करने वाले लड़ाकू विमानों के कॉकपिट से कुछ अनदेखे दृश्यों की एक झलक मिलेगी। आयोजन में 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ नौ मंत्रालयों की झांकियों को शामिल किया गया है।

खासतौर पर डिजाइन किए गए कार्ड

इस वर्ष गणतंत्र दिवस के निमंत्रण कार्ड विशेष रूप से डिजाइन किए गए हैं। आमंत्रितों को भेजे गए कार्ड में औषधीय बीज हैं, जिससे पौधे उगाए जा सकते हैं। रक्षा मंत्रालय ने मेहमानों से अनुरोध किया है कि वे कार्यक्रम के बाद कार्ड को बगीचे की जमीन में दफना दें। कार्ड में अश्वगंधा, एलोवेरा और आंवला के बीज शामिल किए गए हैं।

Edited By: Amit Singh