हैदराबाद, एएनआइ। आंध्र प्रदेश के नेल्‍लोर (Nellore) में फंसे अपने बेटे को लाने के लिए मां रजिया बेगम ने साहस और हिम्‍मत का परिचय दिया। उन्‍होंने निजामाबाद के बोधन से आंध्र प्रदेश के नेल्‍लोर तक की 1400 किमी की दूरी तीन दिनों में अपने स्‍कूटी के जरिए तय की और नेल्‍लोर में फंसे अपने बेटे को वापस घर लेकर आई। इस घटना ने उस कहावत को चरितार्थ कर दिया, जिसमें कहा गया है- ‘पूत कपूत हो सकता है, लेकिन माता कुमाता नहीं हो सकती।’

50 वर्षीय रजिया बोधन में पेशे से शिक्षिका हैं। बेटे को लाने के लिए रजिया ने 1400 किमी का सफर सोमवार सुबह शुरू किया था और बुधवार शाम को बेटे के साथ वापस घर लौटीं। मंगलवार दोपहर को नेल्‍लोर में उन्‍होंने अपने 17 वर्षीय बेटे मोहम्‍मद निजामुद्दीन को लिया जो वहां अपने एक मित्र के घर में लॉकडाउन के कारण फंसा था। रजिया ने तीन दिनों में कुल 1400 किमी का सफर किया। बोधन के सहायक पुलिस कमिश्‍नर वी जयपाल रेड्डी ने (V Jayapal Reddy) ने जो पत्र रजिया को दिया था उसमें उन्‍होंने अधिकारियों से कहा कि रजिया को जाने की अनुमति दी जाए, ताकि वो अपने बेटे को वापस ला सकें। रजिया बेगम ने बताया कि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश दोनों ही राज्‍यों में पुलिस ने उन्‍हें कई जगहों पर रोका, लेकिन पुलिस ऑफिसर के पत्र को देखने के बाद जाने की अनुमति दे दी।

एक बेटी व एक बेटे की मां रजिया के पति की मौत 12 साल पहले ही हो गई थी। 2019 में बारहवीं की पढ़ाई करने के बाद निजामुद्दीन मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए हैदराबाद के एक कोचिंग में पढ़ाई कर रहे हैं।

रजिया बेगम ने बताया कि किस तरह पुलिस ने मानवता दिखाते हुए उनकी मदद की। उन्‍होंने कहा, ‘मैंने अपनी मजबूरी और हालात से बोधन के एसीपी को अवगत कराया। इसके बाद मुझे उन्‍होंने अनुमति दे दी। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 25 मार्च से भारत में लॉकडाउन जारी कर दिया है जो 14 अप्रैल तक रहेगा।

12 मार्च को निजामुद्दीन अपने दोस्‍त के साथ नेल्‍लोर गया था, क्‍योंकि उसके दोस्त के पिता अस्‍पताल में भर्ती थे। इसके बाद 23 मार्च को राज्‍य में लागू हुए लॉकडाउन के कारण वह वहीं फंस गया।

लंबा समय बीत जाने के कारण परेशान रजिया ने बेटे को लाने का फैसला किया और अनुमति के लिए एसीपी के पास गई जहां उसे सहमति मिल गई। बस फिर क्‍या था वह निकल पड़ी अपनी स्‍कूटी के सहारे बेटे को लाने। रजिया ने बताया कि वह निडर हो सुनसान रास्‍ते पर लगातार चलती रही। इतने लंबे सफर के बावजूद वह नेल्‍लोर में एक दिन के लिए भी नहीं रुकी और तुरंत वापस अपने घर लौट आई।

एसीपी जयपाल रेड्डी ने कहा कि वह रजिया की इच्‍छा देखकर उसे रोक न सके। उन्‍होंने बताया, ‘बेटे के प्रति उसका प्‍यार देखते हुए उसे रोक न सका। मैंने केवल बोधन से नेल्‍लोर तक के लिए पुलिस ऑफिसरों से अनुमति देने की अपील की।’

 

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस