जयपुर, जागरण संवाददाता। Rajasthan News: राजस्थान में भरतपुर जिले के सकरौरा गांव में शनिवार देर रात करीब डेढ़ बजे नींद में सोते हुए परिवार पर एक युवक ने फायरिंग की, जिसमें तीन भाईयों की मौत हो गई और तीन लोग बुरी तरह घायल हो गए। घायलों में दो महिलाएं एवं एक पुरुष शामिल है। घायलों का भरतपुर जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। देर रात चली गोलियों की आवाज से पूरेगांव में दहशत फैल गई। रात तीन बजे सूचना मिलने पर कुंहेर थाना पुलिस मौके पर पहुची और शवों को अस्पताल की मोर्चरी में पहुंचाया। पुलिसकर्मियों ने ही घायलों को अस्प्ताल में पहुंचाया।

भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात

गांव में तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात की गई है। पुलिस के अनुसार आपसी रंजिश के चलते गांव के आरोपित लाखन (31) ने अपने साथियों के साथ मिलकर पड़ौस में रहने वाले गजेंद्र के परिवार पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। उस समय गजेंद्र का पूरा परिवार गहरी नींद में सो रहा था। गजेंद्र के पुत्र टेनपाल और लाखन के बीच पहले दोस्ती थी और बाद में विवाद हो गया ।विवाद बढ़ा तो लाखन ने गजेंद्र के पूरे परिवार को खत्म करने की योजना बनाई।

Mann ki Baat: जी-20 की मेजबानी मिलने से देशवासियों का सीना चौड़ा, हमारे लिए बड़ा मौका- पीएम मोदी

दो गाड़ियों में पहुंचे बदमाश

पुलिस के अनुसार रात डेढ़ बजे एक दर्जन बदमाश दो गाड़ियों में सवार होकर गजेंद्र के घर के बाहर पहुंचे। सभी के पास हथियार थे। गालियां निकालते हुए सभी बदमाश गजेंद्र के घर में घुसे और फायरिंग शुरू कर दी। गहरी नींद में सो रहे परिवार के लोग संभलने लगे इस बीच गजेंद्र खड़ा होने लगा तो बदमाशों ने उस पर फायरिंग कर दी,जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। गोलियों की नींद से जगे गजेंद्र के दो भाईयों ईश्वर और समंदर को भी बदमाशों ने गोली मारी। इस बीच टेनपाल अपने पिता और चाचा के बचाव में आया तो बदमाशों ने उसे भी गोली मारी। टेनपाल की पत्नी और मां पर भी फायरिंग की गई।

फायरिंग में तीन लोगों की मौत

पुलिस के अनुसार फायरिंग में समंदर (58), गजेंद्र (52) और ईश्वर (54) की मौत हो गई। वहीं गजेंद्र की पत्नी माया (48),टेनपाल (29) और टेनपाल की पत्नी रवीना (28) बुरी तरह जख्मी हो गए। गजेंद्र राजस्थान पुलिस में सिपाही था। वह इन दिनों अलवर में तैनात था। इन दिनों अवकाश पर अपने गांव आया हुआ था। पुलिस के अनुसार लाखन और टेनपाल के बीच 24 नवंबर को झगड़ा हो गया था। दोनों के घर आमने-सामने हैं । दोनों पहले आपस में मित्र भी थे।उस दिन गांव के पंचों ने दोनों परिवारों के बीच सुलह करवा दी थी। लेकिन लाखन ने सुलह के बाद भी रंजिश रखी और शनिवार देर रात अपने साथियों को बाहर से बुलाकर टेनपाल के परिवारों पर फायरिंग कर दी।

Mann Ki Baat: कागज का हवाई जहाज बनाकर उड़ाने वालों को भी भारत में प्लेन बनाने का मौका मिल रहा- पीएम मोदी

आरोपी फरार

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल मीणा ने बताया कि फायरिंग की सूचना मिलते ही थाना अधिकारी पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंच गए थे। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। आरोपित लाखन और उसके साथी फरार है। लाखन के स्वजनों से पूछताछ की जा रही है। उसकी तलाशी के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया है। रविवार सुबह मृतकों के स्वजनों ने डीग-भरतपुर मार्ग जाम कर दिया।सूचना मिलने पर मौके पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह,पुलिस महानिरीक्षक गौरव श्रीवास्तव और पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने जाम लगाकर बैठे लोगों को समझाइश की और आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। उसके बाद लोग वहां से हटे।

IS से संबंधों को लेकर काबुल की जेल में बंद केरल की महिला, अब मां की सरकार से गुहार- भारत में ही चले मुकदमा

Edited By: Nidhi Avinash

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट