मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कोच्चि (पीटीआइ)। केरल में मूसलाधार बारिश के बाद आई बाढ़ ने लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। राज्य के कई हिस्सों में अब भी बारिश हो रही है, जिस कारण राहत-बचाव कार्य को भी अड़चनों का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच वायनाड जिले के उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र समेत राज्य के कई हिस्सों को भारी भूस्खलन और बाढ़ का सामना करना पड़ा, जिससे रातोंरात हजारों लोगों को राहत शिविरों में आश्रय लेने के लिए मजबूर होना पड़ा।

पश्चिमी घाट के जिले में सोमवार को आए भूस्खलन के कारण कई लोगों को अपना घर छोड़कर भागना पड़ा। निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को राहत शिविरों में शिफ्ट कर दिया गया है। जिले के 124 राहत शिविरों में 13,800 से अधिक लोगों को आश्रय प्रदान किया गया है। वहीं, अतिरिक्त पानी के निकास के लिए बाणासुर सागर बांध के शटर को सोमवार रात को खोलना पड़ा।

कन्नूर, कासरगोड, कोझिकोड, मलप्पुरम और पालक्काड़ समेत उत्तरी केरल के कई जिलों सोमवार रात को खूब बारिश हुई। वहीं, इडुक्की जलाशय के चेरुथोनी बांध भाग के दो शटर सोमवार शाम बंद रहे। बांध में पानी का स्तर कम हो रहा है। इससे विशेष रूप से एर्नाकुलम जिले में, निचले हिस्सों में रहने वाले प्रभावित लोगों की आशंकाओं को कम किया है। उन्हें बांध के पानी के छोड़े जाने से भारी नुकसान होने की आशंका थी।

उधर, मुल्लापेरियार बांध में जल स्तर 136 फीट तक बढ़ गया है, जिससे अधिकारियों को सावधानी बरतने की चेतावनी दी है। बांध से सटे क्षेत्रों में लगातार बारिश हो रही है। इस बीच त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड ने सभी श्रद्धालुओं से पत्तनमतिट्टा जिले में स्थिति सबरीमाला की तीर्थयात्रा पर न जाने की नसीहत दी है। दरअसल, पंबा नदी का जलस्तर बारिश के कारण तेजी से बढ़ रहा है।

सोमवार को केरल के कई हिस्सों में जमकर बारिश हुई, जिससे भूस्खलन की घटनाओं में इजाफा देखा गया। केरल की मूसलाधार बारिश के बाद आई बाढ़ में पिछले छह दिनों में 39 लोगों की मौत हो चुकी है। गृह मंत्रालय के राष्ट्रीय आपातकालीन संचालन केंद्र (एनइआरसी) के मुताबिक बाढ़ और बारिश के कारण केरल में अबतक 187 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि 14 जिलों के 2,406 गांव बारिश और बाढ़ से बुरी तरह से प्रभावित हैं। वहीं, जलप्रलय ने 26,400 हेक्टेयर खड़ी फसलों को भी नुकसान पहुंचाया है। वहीं, मलप्पुरम, कोझिकोड, इडुक्की और वायनाड जिलों के विभिन्न स्थानों से भूस्खलन की सूचना मिल रही हैं।

Posted By: Nancy Bajpai

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप