लखनऊ। रेलवे ने आज से यात्री किराया और माल भाड़ा में वृद्धि कर दी। वस्तुत: यह वृद्धि आधी रात से ही लागू कर दी गई। माल भाड़े में वृद्धि से आने वाले दिनों में आम जरूरत की चीजों का और महंगा होना तय माना जा रहा है। इलाहाबाद, कानपुर, लखनऊ, गोरखपुर, मुरादाबाद, और वाराणसी के सभी स्टेशनों से विभिन्न श्रेणियों में सभी स्थानों के लिए यात्री किराए में 14.2 जबकि माल भाड़े में 6.5 फीसद की वृद्धि की गई है।

यात्री किराए की नई दर से अब शिवगंगा एक्सप्रेस से स्लीपर क्लास से वाराणसी से नई दिल्ली जाने के लिए 370 रुपये की बजाए 423 रुपये देने होंगे। स्लीपर में ही मुंबई के लिए 520 की जगह 594 रुपये, कोलकाता के लिए 340 की बजाय 388 और चेन्नई जाने के लिए 675 के स्थान पर 771 रुपये खर्च करने पड़ेंगे।

इस संबंध में रेल यात्रियों का कहना है कि बिना सुविधा बढ़ाए रेल किराया बढ़ाना उचित नहीं है। आठ जुलाई को रेल बजट आने वाला है। इसके पहले किराया बढ़ाने के औचित्य पर भी लोगों ने सवाल खड़े किए। माल भाड़ा बढ़ाये जाने से गरीबों की दाल रोटी महंगी होगी। आमतौर पर रेलवे द्वारा गेहूं, चावल, दाल, नमक, तेल आदि की ढुलाई होती है। इन वस्तुओं पर प्रत्यक्ष महंगाई बढ़ेगी।

सफर के दौरान उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अश्रि्वनी श्रीवास्तव कहते हैं कि मंगलवार की रात 10 बजे तक जारी आरक्षित टिकटों की बाबत सफर के दौरान यात्री से किराए के अंतर की राशि ली जाएगी। इसके लिए चल टिकट परीक्षक बकायदा रसीद देंगे। बुधवार से जारी होने वाले टिकट नए किराये से जारी किए जाएंगे।

इसे भी पढ़े : भारतीय रेल बीमार है, पर 'मीठी' दवा सुधार सकती है मर्ज

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट