उज्जैन, जागरण संवाददाता। आय से अधिक संपत्ति के मामले में मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस ने उज्जैन जिले के बड़नगर के प्रभारी मुख्य नगरपालिका अधिकारी (सीएमओ) कुलदीप किंशुक के तीन घरों पर एक साथ छापे मारे। जांच में तीन करोड़ से ज्यादा की अनुपातहीन संपत्ति मिली है। 12 साल की नौकरी में कुलदीप का वेतन करीब 25 लाख रुपये पाया गया, लेकिन उसके पास इससे कई गुना ज्यादा की जायदाद मिल चुकी है। वर्तमान में वह सहायक राजस्व निरीक्षक है, लेकिन उसके पास कार्यभार प्रभारी सीएमओ का है।

लोकायुक्त पुलिस के निरीक्षक राजेंद्र वर्मा ने बताया कि जून में कुलदीप किंशुक के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की शिकायत मिली थी। जांच के बाद मंगलवार को यह कार्रवाई की गई। बड़नगर में सरकारी आवास पर सुबह 5:30 बजे लोकायुक्त निरीक्षक संतोष जमरा व विशाल रेशमिया के साथ टीम पहुंची। किंशुक ने ही दरवाजा खोला था। लोकायुक्त टीम ने अपना परिचय दिया तो उसके होश उड़ गए। लोकायुक्त पुलिस को यहां से 22 हजार रुपये नकद मिले। इसके अलावा 50 से अधिक बैंकों की पासबुक समेत बैंक, सचिव व सीएमओ की सीलें और कुछ कंस्ट्रक्शन साइट के बिल भी मिले।

आलीशान घर के सभी कमरों में एसी और टीवी

किंशुक के माकडोन स्थित आलीशान तीन मंजिला मकान में सभी कमरों में एसी और टीवी लगे हुए थे। यहां से 3.31 लाख रुपये नकद और सोने-चांदी के जेवर मिले हैं। इस पैतृक मकान को पांच साल पहले कुलदीप ने तोड़कर नया बनाया था। माकडोन में ही दो और मकान व एक प्लॉट की जानकारी सामने आई है। साढ़े 21 बीघा खेती की जमीन के भी कागज हाथ लगे हैं।

उज्जैन में होटल और मकान मिले

उज्जैन में आगर रोड पर स्थित शिवांश पैराडाइज टाउनशिप में कुलदीप किंशुक का दो मंजिला मकान मिला। शास्त्री नगर व विवेकानंद कॉलोनी में एक-एक निर्माणाधीन मकान मिला। रेलवे स्टेशन के सामने दूधतलाई में एक होटल का निर्माण भी कुलदीप करवा रहा है।

Posted By: Neel Rajput

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस