वाराणसी [जागरण संवाददाता]। लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में प्रचार के अंतिम दिन देश की सर्वाधिक चर्चित संसदीय सीट पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मैराथन रोड शो किया। घनी आबादी वाले शहरी इलाके में करीब 12 किलोमीटर की दूरी वाले रोड शो में पूरे रास्ते कांग्रेसियों सहित जनता की भीड़ राहुल का उत्साह बढ़ाती रही।

मुस्लिम बाहुल्य इलाके गोलगड्डा से रोड शो शनिवार सुबह सात बजे से निर्धारित था। राहुल गांधी वहां विलंब से पहुंचे और रोड शो 8.45 बजे शुरू हुआ। गोलगड्डा, पीलीकोठी की मुस्लिम बाहुल्य आबादी के बाद राहुल का काफिला पहुंचा विश्वेश्वरगंज क्षेत्र के व्यापारियों के बीच और वहां से मैदागिन के लिए बढ़ा। खुली गाड़ी में राहुल गांधी के साथ गुलाम नबी आजाद, राजबब्बर, राशिद अल्वी, नगमा, प्रमोद तिवारी, प्रत्याशी अजय राय व पूर्व सांसद डा. राजेश मिश्र उसी गाड़ी पर सवार थे।

लहुराबीर पहुंचने तक धूप की तल्खी और तपिश बढ़ चुकी थी लेकिन कांग्रेसियों के उत्साह में कमी नहीं हुई। चेतगंज, नई सड़क होते हुए राहुल का काफिला गोदौलिया के बाद पुन: मुस्लिम बाहुल्य इलाके मदनपुरा में पहुंचा तो वहां भी जनसैलाब देखते ही बन रहा था। मदनपुरा में राहुल ने वाहन बदला और खुली गाड़ी से उतरकर सफारी गाड़ी की छत पर बैठ गए। वहां से सोनारपुरा होकर काफिला अस्सी पहुंचा। अस्सी की मशहूर अड़ी पप्पू की दुकान से उन्हें चाय आई। चाय की चुस्कियों संग राहुल का काफिला लंका की ओर बढ़ा।

बीएचयू सिंहद्वार पहुंचकर राहुल ने वहां महामना पं. मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माला चढ़ाई। दोपहर 12.30 बजे राहुल गांधी का रोड शो समाप्त हो गया, हालांकि रोड शो की अनुमति 11 बजे तक की थी।

दूसरी ओर राहुल गांधी के रोड शो के रूट को लेकर भाजपा ने चुनाव आयोग पर सवाल उठाया है। वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली ने कहा कि निर्वाचन आयोग ने सुरक्षा कारणों का हवाला देकर नरेंद्र मोदी की सभा बेनियाबाग में नहीं होने दी जबकि राहुल गांधी का रोड शो ठीक वहीं से गुजरा। दूसरी ओर तय मियाद के बाद भी रोड शो जारी रखने को लेकर राहुल गांधी के आचार संहिता के फेर में पड़ने की आशंका भी जताई जा रही है।

राहुल गांधी के रोड शो की लाइव तस्वीरें देखने के लिए क्लिक करें

विरोधियों को पिटवा रहीं ममता

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस