कोलकाता, जागरण न्यूज नेटवर्क। नरेंद्र मोदी के बाद ममता बनर्जी के गढ़ बंगाल में पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला। राहुल ने तल्ख भाषा का प्रयोग करते हुए कहा कि बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर अगर कोई किसी दूसरी पार्टी के लिए काम करता है तो उसे टीएमसी वाले पीट रहे हैं। तृणमूल सरकार सिर्फ पार्टी के लिए कार्य कर रही है। महिलाओं के खिलाफ अपराध, सारधा घोटाला, केंद्र से रुपये समेत कई मुद्दों पर हल्ला बोला।

पश्चिम मेदिनीपुर के डेबरा में आयोजित अपनी पहली सभा में मोदी का नाम नहीं लिया। सिर्फ भाजपा के खिलाफ इतना कहा कि वह कुछ अमीरों की सरकार बनाना चाहते हैं। गरीबों को उनका परवाह नहीं है। परंतु, कोलकाता के शहीद मिनार मैदान में आयोजित सभा में एक बार फिर गुजरात मॉडल व उद्योगपतियों को जमीन देने को लेकर करारा प्रहार किया। कहा कि गरीबों के बारे में उनकी सोच नहीं है। सिर्फ कांग्रेस ही गरीबों व देश की एकता के बारे में सोचती है। हम देश में ऐसा सरकार बनाना चाहते हैं जो देश के विकास करे और एकता बनाए रखे।

दोनों ही सभा में सारधा चिट फंड घोटाले का जिक्रकरते हुए राहुल ने कहा कि बंगाल के 20 लाख लोगों ने अपना पैसा चिटफंड घोटाले में गंवा दिया। लेकिन ममता ने आज तक उन लोगों के लिए कुछ नहीं किया। शिक्षकों की नियुक्ति में भी व्यापक धांधली हुई है। उन्होंने कहा कि बंगाल में बहुत सारा पैसा यूपीए सरकार ने भेजा है, एनडीए की सरकार से भी ज्यादा, लेकिन ममता बनर्जी बोलती हैं कि कुछ नहीं भेजा। राहुल ने कहा- बंगाल में सिर्फ टीएमसी के कार्यकर्ताओं का विकास होता है और बाकी किसी भी पार्टी के कार्यकर्ताओं की सिर्फ पिटाई होती है।

डेबरा में राहुल ने कहा कि बंगाल से लाल झंडा तो हट गया, लेकिन सब कुछ पहले ही जैसा है। पहले कम्युनिस्ट कैडर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर अत्याचार करते थे, अब यही काम टीएमसी वाले कर रहे हैं। बंगाल में उद्योग का अभाव है, तो ऐसे में युवकों को रोजगार कैसे मिल सकता है। राहुल ने कटाक्ष करते हुए कहा कि आज आलम यह कि मोबाइल से लेकर कैमरा यहां तक कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जो चप्पल पहनती हैं, उस पर भी 'मेड इन चाइना' लिखा हुआ होता है। हमें यह स्थिति बदलनी होगी और औद्योगिकीकरण से ऐसा माहौल बनाना होगा कि हर चीज पर मेड इन बंगाल, कर्नाटक या इंडिया लिखा हो। नारी अत्याचार में बंगाल सबसे आगे है। पंचायती राज में 50 प्रतिशत आरक्षण के बाद हम संसद और लोकसभा में भी महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण लागू करना चाहते हैं।

डेबरा की सभा में घटाल के पार्टी उम्मीदवार डॉ. मानस भुइयां व पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस के पर्यवेक्षक शकील अहमद खान मौजूद थे।

पढ़े: ममता ने मोदी को मूर्ख, गधा बताया

कांग्रेस ने अब मोदी की जाति पर उठाए सवाल

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस