हैदराबाद, प्रेट्र। महिला पशु चिकित्सक की दुष्कर्म के बाद हत्या और शव को जला देने की हैवानियत के खिलाफ लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। सोमवार को हैदराबाद समेत पूरे तेलंगाना में जगह-जगह छात्र व वकील संगठनों और आम लोगों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। हर प्रदर्शनकारी की जुबान पर महिला चिकित्सक के लिए न्याय और दरिंदों के लिए फांसी की मांग थी।

दरिंदों को फांसी पर लटकाने की मांग

प्रदर्शनकारियों के हाथों में नारे लिखे बैनर और तख्तियां थी। इन पर मृतका के लिए न्याय और दुष्कर्मियों के लिए फांसी की सजा की मांग वाले नारे लिखे गए थे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की अगुआई में विभिन्न छात्र संगठनों ने शहर में रैली भी निकाली।

आरोपितों की तरफ से कोई वकील केस नहीं लड़ेगा

तेलंगाना एडवोकेट्स ज्वाइंट एक्शन कमेटी के नेतृत्व में वकीलों ने भी घटना के विरोध में हाई कोर्ट के सामने प्रदर्शन किया और हत्यारों को फांसी देने की मांग की। महबूबनगर और रंगा रेड्डी जिले के बार एसोसिएशनों ने पहले ही फैसला कर रखा है कि आरोपितों की तरफ से कोई वकील केस नहीं लड़ेगा।

पुलिस को जल्द जांच पूरा करने के निर्देश

तेलंगाना के पुलिस महानिदेशक एम. महेंद्र रेड्डी ने इस मामले की जांच कर रही पुलिस टीम से निश्चित समय सीमा के भीतर अपना काम खत्म करने को कहा है। डीजीपी ने रविवार की रात अब तक की जांच की समीक्षा भी की। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि डीजीपी ने समय से जांच खत्म करने को कहा है।

10 दिन की रिमांड पर लेने की तैयारी

साइबराबाद पुलिस इस मामले में गिरफ्तार चारों आरोपितों को 10 दिन की रिमांड पर लेने की तैयारी में है। अदालत ने चारों आरोपितों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है।

बता दें कि 27 नवंबर की रात में चारों ने महिला चिकित्सक की सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी और बाद में उनके शव को जला दिया था। घटना के एक दिन बाद पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया था। सभी की उम्र 20 से 24 साल के बीच है। इनमें से मुख्य आरोपित ट्रक चालक है, जबकि बाकी के तीन क्लीनर।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप