चाईबासा। झारखंड में होने वाले दूसरे चरण के मतदान को लेकर चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज चाइबासा पहुंचे। उनका हेलीकाप्टर देखते ही हजारों की भीड़ ने मोदी-मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिए। प्रधानमंत्री के मंच पर पहुंचते ही प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष रघुवर दास ने माला पहना कर उनका स्वागत किया।

मोदी ने चाइबासा के टाटा कॉलेज मैदान में जोहार बोलकर स्थानी भाषा में लोगों का अभिवादन किया। मोदी ने ये कहते हुए और तालियां बटोरी कि, आप चाइबासा वाले हैं और मैं चायवाला।उन्होंने कहा कि झारखंड में नंबर वन बनने की ताकत है। यह प्रदेश प्राकृतिक संसाधनों से परिपूर्ण है। यहां कोयला है, लोहा है, बॉक्साइट है। उन्होंने कहा कि आखिर क्या नहीं है यहां। तभी भीड़ से आवाज आई मोदी नहीं हैं यहां।

अपने संबोधन के दौरान मोदी ने झामुमो सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आदिवासी समाज के लोग समझ गए हैं कि बाप-बेटे की सरकार को आदिवासी लोगों की चिंता नहीं है। उन्हें तो बस अपने परिवार वालों की चिंता है। झारखंड के लोगों से अपील करते हुए मोदी ने कहा कि आप पूर्ण बहुमत की सरकार दीजिए, मैं आपको पूर्ण विकास दूंगा, नहीं तो पता है न समर्थन देने वाले क्या मांगते हैं।

रैली में मोदी ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि जिन्होंने साठ साल तक कुछ नहीं किया वे हमसे पांच महीने का हिसाब मांग रहे हैं। बड़ी-बड़ी बात करने वालों ने बड़ी-बड़ी बर्बादी की है। मैं छोटे छोटे काम करता हूं। आदिवासी समुदाय पर डोरे डालते हुए मोदी ने कहा कि जो आदिवासी भगवान राम के समय से हैं उनके लिए किसी सरकार ने मंत्रालय नहीं बनाया। पहली बार अटल जी ने आदिवासी मंत्रालय बनाया और एक आदिवासी को मंत्री बनाया।

जन धन योजना की सफलता की बात बताते हुए मोदी ने कहा कि बैंक पहले भी थे, लेकिन पहले किसी गरीब को बैंक में नहीं देखा गया। अब बैंक गरीबों के लिए काम कर रहे हैं। इसी के साथ उपस्थित जनसमूह का अभिवादन कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंच से उतर गए। इसके बाद वे चाईबासा से रांची होते हुए काठमांडू जाएंगे, जहां कल से शुरू होने वाले सार्क सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

बता दें कि चाईबासा के इतिहास में यह दूसरा मौका होगा जब देश के प्रधानमंत्री आम जनता से सीधे रूबरू हुए। 80 के दशक में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पुराना चाईबासा हवाई अड्डे पर जनता को संबोधित किया था।


पढ़े - 'पीं-पीं वाला बटन जोर से दबाना ताकि इटली तक झटके लगे'

Edited By: Abhishake Pandey