नई दिल्ली, एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना महामारी पर नियंत्रण के मद्देनजर नौ राज्यों के 46 जिलों के जिलाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। यह बैठक वर्चुअल तौर पर आयोजित की गई है। पीएम मोदी ने जिलाधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि हमारे देश में जितने जिले हैं, उतनी ही अलग-अलग चुनौतियां हैं। एक तरह से हर जिले की अपनी अलग चुनौती है। आप अपने जिले की चुनौतियों को बहुत बेहतर तरीके से समझते हैं। इसलिए जब आपका जिला कोरोना महामारी से जीतता है, तो देश जीतता है। कोरोना के खिलाफ इस युद्ध में आप सब लोग एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका में है। आप एक तरह से इस युद्ध के मैदान में कमांडर हैं।

संक्रमण के घटते मामलों के बीच सतर्क रहने की जरूरत

पीएम मोदी ने बताया कि इस वायरस जानलेवा के खिलाफ हमारे हथियार क्या हैं? उन्‍होंने कहा, 'हमारे हथियार हैं- स्‍थानीय कंटेंमेंट जोन, तेजी से जांच और लोगों तक सही व पूरी जानकारी।' साथ ही पीएम ने चेताया कि इस समय, कई राज्यों में कोरोना संक्रमण के आंकड़े कम हो रहे हैं, कई राज्यों में बढ़ रहे हैं। लेकिन कम होते आंकड़ों के बीच हमें ज्यादा सतर्क रहने की ज़रूरत है।

कोरोना की दूसरी लहर में ग्रामीण क्षेत्रों पर देना है ध्‍यान

उन्‍होंने कहा कि बीते एक साल में करीब-करीब हर मीटिंग में मेरा यही आग्रह रहा है कि हमारी लड़ाई एक एक जीवन बचाने की है। कोरोना की इस दूसरी वेव में, अभी ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों में हमें बहुत ध्यान देना है। कोविड के अलावा आपको अपने जिले के हर एक नागरिक की ‘Ease of Living’ का भी ध्यान रखना है। हमें संक्रमण को भी रोकना है और दैनिक जीवन से जुड़ी ज़रूरी सप्लाई को भी बेरोकटोक चलाना है।

कोरोना वैक्‍सीन की सप्‍लाई बढ़े स्‍तर पर बढ़ाने के प्रयास

पीएम मोदी ने कहा कि टीकाकरण कोविड से लड़ाई का एक सशक्त माध्यम है, इसलिए इससे जुड़े हर भ्रम को हमें मिलकर करना है। कोरोना के टीके की सप्लाई को बहुत बड़े स्तर पर बढ़ाने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। वैक्सीनेशन को लेकर व्यवस्थाओं और प्रक्रियाओं को हेल्थ मिनिस्ट्री लगातार स्ट्रीमलाइन कर रही है।

अंत में पीएम मोदी ने कहा कि जिन लोगों को आज बात करने का मौका नहीं मिला, उनके पास भी बहुत कुछ होगा। मेरा आपसे आग्रह है कि आपको लगता है कि जो चीज आपने अच्छी की है उसे मुझे लिखकर जरूर भेजिए। इसका अन्य ज़िलों में कैसे उपयोग हो मैं इसकी जरूर चिंता करूंगा। आपकी मेहनत और इनोवेशन देश के काम आनी चाहिए।

PMO की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार कर्नाटक (Karnataka), बिहार (Bihar), असम (Assam), चंडीगढ़ (Chandigarh), तमिलनाडु (Tamil Nadu), उत्तराखंड (Uttarakhand), मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh), गोवा (Goa), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) और दिल्ली (Delhi) के अधिकारियों ने इस बैठक में हिस्‍सा लिया।

उल्लेखनीय है कोरोना संक्रमण के कारण देश भर में दूसरी लहर का प्रकोप जारी है। इस बीच प्रधानमंत्री मोदी लगातार बैठकें कर रहे हैं। इस क्रम में उन्होंने सोमवार को डॉक्‍टरों के एक समूह से बातचीत की। यह चर्चा वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये हुई। इसमें प्रधानमंत्री ने डॉक्टरों से सुझाव मांगे साथ ही इस महामारी से मिली सीख के बारे में जाना।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, बीते 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 263,533 नए मामले सामने आए और 4,329 लोगों की मौत हो गई। संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण दुनिया भर के संक्रमित देशों में अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर भारत है। देश में संक्रमितों का कुल आंकड़ा 2.5 करोड़ से अधिक हो गया है और कुल मौतों का आंकड़ा 278,719 है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप