नई दिल्ली। भारत की दिग्गज पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल को दुनिया के सातों महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ने की उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बनने पर आज यहां सम्मानित किया गया।

50 वर्षीय प्रेमलता ने 23 मई 2013 को उत्तरी अमेरिका के अलास्का के माउंट मैकिनले को फतह करके यह उपलब्धि हासिल की। वह इस पर्वत शिखर पर चढ़ने वाली पहली भारतीय महिला हैं। 20 मई 2011 को दुनिया के सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट को फतह करने वाली प्रेमलता इससे पहले अफ्रीका [तंजानिया] में किलिमंजारो, दक्षिण अमेरिका [अर्जेटीना] में एकोनकागुआ, यूरोप [रूस] में माउंट एल्ब्रस, ऑस्ट्रेलिया ओसियाना में कार्सटेंस्ज पिरामिड और अंटार्कटिका में विनसन मासिफ पर चढ़ चुकी हैं। जमशेदपुर के सांसद डॉक्टर अजय कुमार ने प्रेमलता को सम्मानित करते हुए कहा, 'प्रेमलता की यह उपलब्धि उनके लिए निजी तौर पर ही नहीं बल्कि जमशेदपुर और भारत के लिए भी बड़ी उपलब्धि है। टाटा स्टील इससे पहले भी खिलाड़ियों और पर्वतारोहियों की मदद करता रहा है और इस अभियान में भी उनकी अहम भूमिका रही।'

अपनी इस उपलब्धि से उत्साहित प्रेमलता ने कहा, 'मेरी सफलता मेरी अकेले की नहीं है। इसमें कई लोगों की भूमिका है जिसमें मेरा परिवार, बछेंद्री पाल और टाटा स्टील का समर्थन और लोगों का प्यार शामिल है।' अपने दूसरे प्रयास में माउंट मैकिनले को फतह करने वाली प्रेमलता ने कहा कि उनके इस अभियान में नंदलाल रूंगटा की अहम भूमिका रही। प्रेमलता ने 35 बरस की उम्र के बाद पहली बार पर्वतारोहण से नाता जोड़ा जब वह दिग्गज पर्वतारोही बछेंद्री पाल से मिलीं। उन्होंने इसके बाद दार्जिलिंग से पर्वतारोहण का कोर्स किया और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा।

प्रेमलता से जब पूछा गया कि उन्हें अपने इस अभियान में सबसे ज्यादा परेशानी किस शिखर पर चढ़ने में हुई तो उन्होंने कार्सटेंस्ज पिरामिड और माउंट मैकिनले का नाम किया। उन्होंने कहा, 'कार्सटेंस्ज पिरामिड का सफर काफी मुश्किल था। यहां ज्यादा बर्फ नहीं होती और वर्षा वन से होकर गुजरना होता है। दिन में सात से आठ घंटे की यात्रा के दौरान घुटनों तक दलदल से होकर गुजरना पड़ता है। कई बार तो दलदल कमर तक होती है। इसके बाद चट्टानों पर चढ़ना होता है जो आसान नहीं होता। वहां से वापस आते हुए मेरे पैर पर पत्थर भी गिर गया था।

प्रेमलता ने माउंट मैकिनले की यात्रा के बारे में कहा, 'मैकिनले और कार्सटेंस्ज पिरामिड में सामान उठाने के लिए भी कोई नहीं मिलता। सारा सामान खुद उठाना पड़ता है। मैकिनले पर चढ़ते समय मेरे कंधे पर 25 किलो जबकि स्लेज पर 30 किलो के आसपास वजन था। मौसम भी प्रतिकूल था लेकिन एक बार नाकाम रहने के बाद मैं और अधिक प्रतिबद्ध थी।' प्रेमलता ने कहा कि वह इस अभियान के जरिये भारतीय महिलाओं को बताना चाहती थी कि अगर हम ठान लें तो उम्र कोई बाधा नहीं है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस