त्रिची (जेएनएन)। तमिलनाडु में एक अजीब मामला सामने आया है। दरअसल, नौ बच्‍चों की 52 वर्षीय मां आरई को जब दसवीं बार गर्भवती होने का पता चला तो वह इलाज के लिए हेल्‍थ सेंटर पहुंची। वहां हीमोग्‍लोबिन कम होने के कारण उसका इलाज किया जा रहा था। उसके शरीर में खून की कमी को देखते हुए डॉक्टरों ने सलाह दी कि आप तुरंत अस्पताल में भर्ती हो जाएं और डिलिवरी के बाद बर्थ कंट्रोल कराएं। इस पर महिला और उसके परिवारजन अस्पताल से गायब हो गए।

आरई अपने पांच बच्चों और पति के साथ करीब पांच साल से यहां साठ वर्ग फीट के घर में रह रही हैं। यह परिवार एक जगह अधिक समय तक नहीं टिकता। कुछ दिनों में ही अपने रहने की जगह बदलता रहता है। आरई के चार बच्चों की शादी हो चुकी है और वे अपने परिवार के साथ रहते हैं।

आरई का कहना है कि उसे पता नहीं चला कि वह फिर से कब गर्भवती हो गई। उसे लगा था कि मेनोपॉज होने के बाद वह गर्भधारण नहीं करेगी। स्‍थानीय निवासियों के अनुसार, आरई ने अपने सभी नौ बच्‍चों को घर पर ही जन्‍म दिया था और इस बार भी वह अस्‍पताल नहीं जाना चाहती थी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस