नई दिल्ली, जागरण टीम। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2021 के लिए चयनित 32 बच्चों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग से संवाद किया। इनमें से एक थीं दरभंगा की साइकिल गर्ल ज्योति कुमारी। कलेक्ट्रेट में अपने माता-पिता के साथ मौजूद ज्योति ने प्रधानमंत्री का संबोधन सुना। हालांकि उसका सीधा संवाद नहीं हुआ, लेकिन उपस्थिति और अपने जिक्र भर की उपलब्धि से वह प्रफुल्लित थीं। दरभंगा जिला में जाले प्रखंड अंतर्गत सिरहुल्ली निवासी ज्योति कुमारी समेत चयनित बच्चों का नाम लेते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आप (बच्चे) एक भारत, श्रेष्ठ भारत की सुंदर अभिव्यक्ति हैं। कोई खेल के क्षेत्र में देश का नाम रोशन कर रहा है तो कोई शोध में। कोई पर्वतारोहण में कामयाबी हासिल कर रहा है। आप ही में से कल कोई वैज्ञानिक बनेगा। कोई नेता होगा। कैसे जब एक छोटा आइडिया राइट एक्शन से जुड़ता है तो कितने बड़े और प्रभावशाली परिणाम आते हैं। आप सब खुद इसका बड़ा उदाहरण हैं। आपकी इन उपलब्धियों की शुरुआत भी तो किसी विचार से हुई होगी।

वाहवाही में नहीं भटकने की सलाह

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह पुरस्कार आपके जीवन का छोटा पड़ाव है। जब आप यहां से जाएंगे तो लोग वाहवाही करेंगे। आपको ध्यान रखना है कि यह वाहवाही आपके एक्शन (काम) की वजह से है। वाहवाही में भटकना नहीं है। प्रधानमंत्री ने बच्चों को कई अन्य सुझाव भी दिए। उनमें निरंतरता का संकल्प, देश के लिए संकल्प और विनम्रता का संकल्प शामिल रहा।

एक लाख नकद और प्रमाणपत्र मिलेगा

जिलाधिकारी डा. त्यागराजन एसएम ने बताया कि ज्योति को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2021 के तहत एक लाख रुपये और सम्मान पत्र दिया जाएगा।

साइकिल पर पिता को लेकर गुरुग्राम से पहुंची थीं अपने गांव

याद रहे कि लाकडाउन के दौरान ज्योति जख्मी पिता मोहन पासवान को हरियाणा के गुरुग्राम से साइकिल से लेकर अपने गांव आई थीं। 1200 किलोमीटर से अधिक साइकिल चलाकर वह अपने गांव सिरहुल्ली पहुंची थी। उस बहादुरी के लिए तब वह मीडिया की सुर्खियों में रही थीं।

झारखंड की बेटियां खेल में कर रहीं कमाल

मोदी झारखंड की बेटियां खेल के क्षेत्र में बड़े कमाल कर रही हैं। यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज सविता कुमारी से संवाद करते हुए कही। प्रधानमंत्री से सीधे संवाद का कार्यक्रम रांची के उपायुक्त के कार्यालय से हुआ। प्रधानमंत्री से संवाद करने वाली सविता दूसरी प्रतिभागी थीं। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर भी सविता को शुभकामनाएं दी हैं।

पीएम ने शादाब से पूछा, इतनी ऊर्जा आती कहां से है '

आइए अब यूपी चलते हैं, अमेरिका में भारत का झंडा गाड़ने वाले एएमयू के छात्र शादाब से बात करते हैं' अचानक गूंजी इस आवाज को सुन वह चौंक गए। शादाब को उम्मीद ही नहीं थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे बात करेंगे। फिर सवालों का बेफ्रिक होकर जवाब दिया।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के लिए चयनित अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सि‍टी (एएमयू) के 11वीं के छात्र मोहम्मद शादाब का परिचय देते हुए पीएम ने पूछा कि वे युवा एंबेसडर के तौर पर काम रहे हैं, 20 लाख रुपये स्कालरशिप हासिल की, महिला सशक्तीकरण के लिए काम कर रहे हैं। इतना सब करने की प्रेरणा कहां से मिलती है। जवाब में शादाब ने डा. एपीजे अब्दुल कलाम को अपना हीरो बताया। शादाब ने कहा कि माता-पिता ने बचपन में ही सिखाया था कि डा. एपीजे अब्दुल कलाम जैसा बनना है। इस पर पीएम बोले, माता-पिता का विशेष तौर पर आभार है, जिन्होंने शादाब की जिंदगी को बचपन में ही दिशा दे दी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप