मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली। गोपीनाथ मुंडे की मौत भले ही सड़क हादसे में हुई है लेकिन दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और इंटेलीजेंस ब्यूरो की टीम घटना के अन्य पहलुओं की भी जांच कर रही है। इसका खुलासा पुलिस ने मंगलवार दोपहर पटियाला हाउस कोर्ट में आरोपी कार चालक गुरविंदर सिंह को पेश करते हुए किया। पुलिस ने कहा कि इस मामले में उन्हें गुरविंदर से पूछताछ करनी है। पुलिस को संदेह है कि ऐसा तो नहीं कि किसी ने दुर्घटना जानबूझकर कराई हो। पुलिस ने मुंडे के कार चालक से भी पूछताछ की है। पुलिस इस हादसे से पहले और बाद में मुंडे के संपर्क में रहे लोगों से भी पूछताछ कर रही है।

हाई सिक्योरिटी जोन में नहीं सीसीटीवी कैमरे

पृथ्वीराज रोड और अरविंदो मार्ग के बीच अरविंदो चौक है। यह इलाका हाई सिक्योरिटी जोन में आता है। दिन भर इस रूट से वीवीआइपी मूवमेंट होते हैं। इलाके में ज्यादातर मंत्रियों और सांसदों के सरकारी आवास हैं। प्रधानमंत्री आवास यानी सात रेसकोर्स रोड यहां से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर है। फिर भी इस चौराहे पर सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए हैं। हादसा सुबह होने के कारण कोई चश्मदीद गवाह भी नहीं है। दुर्घटना के बाद इंडिका कार रेडिएटर खराब हो जाने के कारण बंद हो गई थी। इसलिए आरोपी चालक गुरविंदर भाग नहीं सका।

काश सीट बेल्ट बांधी होती..

मुंडे की सड़क हादसे में मौत की घटना सड़क सुरक्षा पर भी सवाल खड़े कर गई। दोनों कारों के बीच टक्कर इतनी जोरदार नहीं हुई कि किसी की जान चली जाए। उसी कार में ड्राइवर व आगे की सीट पर बैठे उनके निजी सहायक को खरोंच तक नहीं आई। ऐसे में कहा जा रहा है कि यदि पिछली सीट पर बैठे मुंडे ने सीट बेल्ट बांधी होती तो उनकी जिंदगी बच सकती थी। डॉक्टरों ने बताया कि विदेश में सुरक्षित सफर के लिए पिछली सीट पर बैठे व्यक्ति को भी सीट बेल्ट बांधना अनिवार्य है। लेकिन हमारे यहां ऐसा नहीं है, जबकि यहां भी इसे अनिवार्य करने की जरूरत है।

दिनभर का घटनाक्रम

सुबह 6.15 बजे-गोपीनाथ मुंडे लोधी एस्टेट स्थित सरकारी आवास से एयरपोर्ट जाने के लिए सफेद रंग की मारुति एसएक्स 4 से निकले।

सुबह 6.20 बजे-अरविंदो चौक पर इंडिका कार ने उनकी गाड़ी में टक्कर मारी।

सुबह 6.30 बजे-मुंडे को एम्स ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया।

सुबह 7.00 बजे-पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर इंडिका कार के चालक गुरविंदर को गिरफ्तार किया और घटनास्थल पर बैरिकेड लगाकर जांच शुरू की।

सुबह 7.20 बजे-डॉक्टरों ने मुंडे को मृत घोषित कर दिया।

सुबह 8 बजे-केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी एम्स ट्रामा सेंटर पहुंचे।

दोपहर 12.30 बजे-मुंडे का पार्थिव शरीर एम्स से भाजपा मुख्यालय के लिए रवाना।

दोपहर 1.30 बजे-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत पक्ष-विपक्ष के तमाम नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने भाजपा मुख्यालय पहुंचे।

शाम 4 बजे-विशेष विमान से मुंडे का शव मुंबई के लिए रवाना हुआ।

पढ़ें: महाराष्ट्र में भाजपा का ओबीसी चेहरा थे मुंडे

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप