हैदराबाद, एएनआइ। दिवाली से पहले देशभर में अवैध पटाखा उत्पादन और ब्रिकी पर रोक लगाने का अभियान तेजी पर है। इस क्रम में अब आंध्र प्रदेश की एक पटाखा निर्माण कंपनी में छापा मारा गया है। कोट्टपेटा शहर में रविवार को यह छापा मारा गया है। इस दौरान दो इकाइयों को जब्त किया गया जो कथित रूप से नियमों और विनियमों का उल्लंघन कर रहे थे। मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के आदेश मिलने के बाद अमलापुरम राजस्व विभागीय अधिकारी (आरडीओ) भवानी शंकर और उप-विभागीय पुलिस अधिकारी (एसडीपीओ) शेख मासूम बासा ने यहां पर छापा मारा। 

इस दौरान उन्होंने बताया कि हमने सभी पटाखा निर्माण यूनिट में निरीक्षण करने के आदेश दिए थे। सीएम जगन मोहन रेड्डी ने हाल ही में एक पटाखा कंपनी में आग लगने की घटना के बाद काफी चिंतित हैं। इसके बाद ही पुलिस विभाग और अग्निशमन विभाग ने पटाखा इकाइयों की जांच की है।

इसके अलावा उन्होंने बताया कि भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी असंवैधानिक यूनिट के खिलाफ कार्रवाई की गई है और दो अवैध यूनिट से भारी मात्रा में पटाखे जब्त किए हैं। 

इससे पहले थोड़े दिन पहले उड़िसा के कटक में 8 अवैध पटाखा फ्रैक्टियों पर छापा मारा गया था। इस दौरान काफी मात्रा में विस्फोटक जब्त किए गए थे। इस मामले में 12 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था। बता दें कि पुलिस ने इस छापेमारी के लिए 8 टीमों का गठन किया गया था। इस छापेमारी में 25 किलो गन पाउडर, 14 किलो पोटास, 35 किलो मेटल ब्लैक पाउडर और 12 किलो एल्युमिनयिम डस्ट जब्त किए गए थे। 

इसके अलावा थोड़े दिन पहले दिल्ली में भी एक अवैध पटाखा फैक्ट्री में छापा मारा गया था। नरेला इंडस्ट्रियल क्षेत्र में यह छापा मारा गया था। इस दौरान 50 लाख से ज्यादा कीमत के पटाखे सहित मशीनें जब्त की गई थी। 

यह भी पढ़ें: Odisha: कटक में 8 अवैध पटाखा फैक्ट्रियों पर छापा, 12 गिरफ्तार, बड़ी मात्रा में विस्फोटक जब्त

 

Posted By: Pooja Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप