नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस ने संप्रग-2 सरकार से नाता तोड़ने के बाद बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को इस्तीफा देने के बाद नए सिरे से जनाधार प्राप्त करना चाहिए, ताकि यह मालूम किया जा सके कि जनता सरकार की नीतियों का समर्थन करती है या नहीं।

केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन [संप्रग] सरकार से समर्थन वापसी की घोषणा करने के एक दिन बाद तृणमूल के सांसद कुणाल घोष ने ट्विटर पर लिखा है कि केंद्र में तृणमूल के मंत्रियों से पहले मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

घोष ने ट्विटर पर लिखा, तृणमूल के मंत्री शुक्रवार को इस्तीफा देंगे। उनका इस्तीफा स्वीकार करने से पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को स्वयं इस्तीफा देकर नए सिरे जनाधार प्राप्त करना चाहिए कि जनता उनकी नीतियों को समर्थन देती है या नहीं।

उन्होंने लिखा, तृणमूल केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध कर रही है। कांग्रेस को याद रखना चाहिए कि यह उनकी निजी सरकार नहीं है। इन नीतियों के साथ उन्हे सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

घोष ने ममता की तुलना भगवान श्रीकृष्ण से करते हुए लिखा, याद रखें, महाभारत में दुर्योधन ने कृष्ण से नारायणीसेना ली थी, जबकि अर्जुन ने केवल कृष्ण को अपने सारथी के रूप में लिया था और युद्ध जीता था। संप्रग संख्याबल पर खुश हो सकती है, लेकिन हमारे पास दीदी है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप