बैंकॉक, एजेंसी । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को आसियान सम्‍मेलन, पूर्वी एशिया सम्‍मेलन तथा क्षेत्रीय व्‍यापक आर्थिक भागीदारी सम्‍मेलन में शिरकत करने के बाद स्‍वदेश लौट रहे हैं। इस यात्रा में उन्‍होंने ऑस्‍टेलिया और वियतनाम के अपने समकक्षों से भी मुलाकात की। बता दें कि प्रधानमंत्री आसियान सम्‍मेलन, पूर्वी एशिया सम्‍मेलन तथा क्षेत्रीय व्‍यापक आर्थिक भागीदारी सम्‍मेलन में शिरकत के लिए बैंकॉक में थे। मोदी शनिवार को थाइलैंड की राजधानी बैंकाॅक गए थे।

पीएम मोदी तीन नवंबर को 16वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। वह चार नवंबर को 14वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन और एक क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) समझौते पर बातचीत करने वाले देशों की तीसरी शिखर बैठक में भी भाग लेंगे। मोदी यहां शनिवार शाम (दो नवम्बर) एक इनडोर स्टेडियम में भारतीय समुदाय के लोगों को भी संबोधित करेंगे।

उनकी यह यात्रा ऐसे समय हुई जब एशिया प्रशांत क्षेत्र के 16 देशों के बीच एक वृहद व्‍यापार समझौते को लेकर वार्ता चल रही है। भारत को इस समझौते पर हस्‍ताक्षर करने हैं। इसके लिए भारत अपने कूटनीतिक प्रयास कर रहा है। यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री ने बैंकाक में 'स्‍वासदी पीएम मोदी' कार्यक्रम में भी हिस्‍सा लिया। इस कार्यक्रम में उन्‍होंने भारतीय समुदाय को संबोधित किया। प्रधानमंत्री गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर एक स्‍मारक सिक्‍का भी जारी किया।

चार नवंबर को प्रधानमंत्री 14वें पूर्वी एशिया शिखर सम्‍मेलन और एक क्षेत्रीय व्‍यापक आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) समझौते पर बातचीत करने वाले देशों की तीसरी शिखर बैठक में भी हिस्‍सा लिए। इस मौके पर संचार, आर्थिक साझेदारी, साइबर सुरक्षा समेत कई मुद्दों पर सकारात्‍मक चर्चा हुई। इसके साथ मोदी ने ईस्‍ट एशिया समिट के प्रमुख देशों से विभिन्‍न मुद्दों पर चर्चा की। बता दें कि आसियान के दस प्रमुख देशों में ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, मलेशिया, म्यांमार, सिंगापुर, थाईलैंड, फिलीपींस, लाओस और वियतनाम जैसे प्रमुख राष्‍ट्र शामिल हैं। इसके साथ भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड छह एफटीए पार्टनर्स हैं।  

Posted By: Ramesh Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप