नई दिल्ली(जेएनएन)। पिछले साल 8 नवंबर को देश में नोटबंदी लागू किए जाने के बाद अब पीएम मोदी इसका एक साल पूरा होने पर नया कदम उठा सकते हैं। 8 नवंबर को केंद्र सरकार और भाजपा इसकी पहली वर्षगांठ एंटी ब्लैक मनी डे के रूप में मनाने वाली है और इसी के साथ पीएम मोदी नोटबंदी पार्ट 2 की तैयारी में भी लगे हैं।

माना जा रहा है कि इस बार उनका निशाना बेनामी संपत्ति होगी। पीएम 8 नवंबर को इसे लेकर रोडमैप भी पेश कर सकते हैं। इसे लेकर उच्च स्तर पर बैठकों का दौर जारी है और इसी कड़ी में 10 नवंबर के पहले ही सभी केंद्रीय मंत्रियों की भी मीटिंग बुलाई गई है।

जानकारी के मुताबिक इस मीटिंग में करप्शन और काले धन के खिलाफ अगली रणनीति के बारे में गहन विचार विमर्श किया जाएगा। इस बारे में 10 नवंबर की मीटिंग में डिटेल प्लान पेश किया जाएगा।

आपको बता दें पीएम पहले ही इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि कालेधन और भ्रष्टाचार पर लगाम की दिशा में उनका अगला निशाना बेनामी संपत्तियां हो सकती हैं। इसे लेकर कानून बनाने की बात भी सामने आई थी। इसके तहत अगर किसी संपत्ति के मालिकाना हक का सबूत पेश नहीं हुआ तो सरकार उसे जब्त करेगी।

यह भी पढ़ेंः नोटबंदी की वर्षगांठ पर वार-पलटवार की तैयारी में भाजपा-कांग्रेस

कालेधन के खि‍लाफ लड़ाई

मोदी सरकार का दावा है कि नोटबंदी ने कालेधन पर कड़ा प्रहार किया है। हिमाचल प्रदेशन में एक रैली को संबोध‍ित करते हुए पीएम मोदी ने बताया कि नोटबंदी के बाद बंद हुई 3 लाख कंपनियों में से 5 हजार कंपनियों के बैंक खातों से 4000 करोड़ रुपये होने का पता चला है। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने शुरुआती जांच के आधार पर कुछ आंकड़े पेश किए हैं। मंत्रालय के मुताबिक 56 बैंकों से मिले डाटा के अनुसार 35000 कंपनियों के 58000 बैंक खातों में नोटबंदी के बाद 17 हजार करोड़ डिपोजिट हुए और निकाले गए। इस दौरान सरकार ने कई शेल कंपनियों का पता लगाने की बात भी कही है।

Posted By: Sanjeev Tiwari