नई दिल्ली, आइएएनएस। सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर करके ट्विटर और फेसबुक समेत सोशल मीडिया साइट्स को आधार से जोड़ने की मांग की गई है। ताकि डुप्लीकेट और फर्जी अकाउंट्स पर रोक लगाने के साथ-साथ फर्जी खबरों पर लगाम लगाई जा सके।

भाजपा नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर इस याचिका में इसके लिए केंद्र सरकार को निर्देश दिए जाने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है, 'फर्जी खबरों के प्रकाशन में कालेधन का इस्तेमाल होता है, राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों द्वारा चुनावी खर्च को कम करके बताया जाता है और इसमें कई अन्य तरह का भ्रष्टाचार शामिल होता है। कालेधन के प्रभाव की वजह से अलग-अलग वित्तीय हैसियत के लोगों के बीच चुनावी असंतुलन पैदा होता है।' उपाध्याय का कहना है, लोकतंत्र का तकाजा यह है कि चुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष हों जो फर्जी खबरों पर नियंत्रण से ही संभव हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार ने नागरिकों के सभी डॉक्यूमेंट को आधार से जोड़ने की कवायद तेज कर दी है। देशभर में ज्यादातर डॉक्यूमेंट को आधार के साथ जोड़ा जा रहा है। फिलहाल आधार कार्ड को पैन कार्ड से लिंक कराने के लिए सरकार अभियान चला रही है। सरकार के नियम के अनुसार उन व्यक्तियों को जिनके पास पैन कार्ड है, उन्हें आधार कार्ड से जोड़ना अनिवार्य है। अगर पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक नहीं किया गया तो पैन कार्ड स्वीकार नहीं किया जायेगा और वह किसी काम का नही रहेगा।

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप