गाजीपुर [राजकमल]। केंद्र सरकार के मंत्री व कांग्रेस के नेता, नियंत्रक व महालेखा परीक्षक [कैग] पर भले ही भरोसा न होने की बात कह रहे हों लेकिन कैग विनोद राय के पैतृक गाव परसा को उनकी निष्पक्षता पर पूरा एतबार है। उत्तर प्रदेश के इस गाव के लोगों के चेहरे पर गौरव का भाव दिखता है। बड़े संवैधानिक पद पर होने के बावजूद विनोद राय को आज भी परसा से पूरा लगाव है।

मुहम्मदाबाद ब्लॉक के इस गांव के लोग विनोद राय पर लगाए जा रहे आरोपों से नाराज हैं। राय की प्राथमिक शिक्षा यहीं के विद्यालय में हुई। उनके सहपाठी रहे सेवानिवृत्ता शिक्षक गोवर्धन राय बताते हैं कि अव्वल तो कांग्रेस का यह कहना कि वह राजनीति में आने के लिए कैग का दुरुपयोग कर रहे हैं बिल्कुल गलत है। वह अपनी धुन के पक्के और दायित्वों के प्रति पूरी ईमानदारी बरतने वाले शख्स हैं। किसी भी मामले में उन पर अंगुली नहीं उठाई जा सकती है। गांव के किसान विजय शंकर का कहना है कि विनोद पर महत्वाकांक्षा का आरोप लगाना बेमानी है।

विनोद राय को अपने गांव की माटी और गंवई बोली से लगाव है। पूर्व ग्राम प्रधान बताते हैं कि वह अक्सर फोन करते हैं और ठेठ भोजपुरी में पूरे गांव का हालचाल लेना नहीं भूलते। खास मौकों पर अपने गांव आते हैं। जहां तक राजनीति में रुचि की बात है तो उससे उनके परिवार का दूर का भी वास्ता नहीं है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर