शिवमोगा, एजेंसी। देश में नाबालिग लड़की या लड़के की शादी एक अपराध है, लेकिन फिर भी इस तरह के मामले सामने आते रहते हैं। नाबालिग की शादी का ताजा मामला कर्नाटक के शिवमोगा जिले का है। पुलिस ने लड़की परिजनों के खिलाफ कार्रवाई भी की है। पुलिस ने नाबालिग लड़की के परिजनों के खिलाफ केस दर्ज किया है। इसके अलावा दूल्हा, पुजारी, कैमरामैन और एक हलवाई पर भी केस दर्ज कर लिया है।

31 जुलाई को हुई शादी

पुलिस ने बताया कि 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली लड़की की शादी 31 जुलाई को संथेकादुर गांव में बालासुब्रमण्यम मंदिर में हुई थी। बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के सदस्यों को नाबालिग लड़की की शादी की सूचना मिली थी। सीडब्ल्यूसी की टीम ने शादी के बाद होने वाली रस्म 'बीगड़ा ऊटा' समारोह के दौरान 1 अगस्त को छापेमारी की।

बाल कल्याण समिति ने की छापेमारी

पूछताछ में पता चला कि लड़की नाबालिग है। बताया जा रहा है कि लड़की ने खुद सीडब्ल्यूसी के अधिकारियों को बताया कि वो नाबालिग है। पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए नाबालिग के पिता संतोष, दूल्हा, उसके चाचा और चाची के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। पुलिस ने शादी कराने वाले पुजारी, हलवाई, शादी का कार्ड छापने वाले दो लोग और दो फोटोग्राफर के खिलाफ भी केस दर्ज किया है।

पुलिस ने शुरू की जांच

शिवमोगा जिले की तुंगनगर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 के तहत धारा 9, 10 और 11 के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार, लड़की अपने दूर के रिश्तेदार संतोष से प्यार करती थी। घरवालों ने संतोष से बात करते हुए उसे रंगे हाथों पकड़ा गया, जिसके बाद परिजनों ने उनकी शादी करने का फैसला किया।

Edited By: Manish Negi