नई दिल्ली (एएनआई)। तमिलनाडु की राजनीति में मचा भूचाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। शशिकला को सुप्रीम कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद हुई पार्टी विधायकों की बैठक में पन्नीरसेलवम को पार्टी की प्राथमिकता सदस्यता से ही बाहर कर दिया गया है। शशिकला के नेतृत्व में हुई इस बैठक में पलानीसामी को नया नेता चुना गया है।

पार्टी में हुए इस फैसले पर एम थमबीदुरई ने कहा, 'हम समीक्षा याचिका दायर करेंगे, विधायक दल का नया नेता नेता निर्वाचित किया जा चुका है। पन्नीरसेलवम अब पार्टी के सदस्य नहीं हैं।' वहीं पलानीसामी ने इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि उन्हें पार्टी में हुए बदलाव की जानकारी देने के लिए गवर्नर को एक पत्र लिखा है।

पन्नीरसेलवम समेत 20 नेता बर्खास्त

पन्नीरसेलवम के अलावा 19 और नेताओं को एआईएडीएमके से बाहर का रास्ता दिखाया गया है। इनमें 12 सांसद और आठ विधायक शामिल हैं। सभी नेताओं ने शशिकला के खिलाफ विद्रोह करते हुए पन्नीरसेलवम को अपना समर्थन दिया था।

इससे पहले जब सुप्रीम कोर्ट का फैसला सामने आने के बाद काफी संख्या में पन्नीरसेलवम के समर्थक उनके आवास के बाहर एकत्रित हुए और आतिशबाजी छोड़ी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शशिकला ने भावुक होते हुए कहा कि वह आने वाली परेशानियों को भी सह लेंगी।

सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को ठहराया दोषी, सीएम बनने का सपना टूटा

कोर्ट के फैसले की जानकारी मिलने के बाद भावुक होकर उन्होंने विधायकों से कहा कि जब-जब अम्मा और पार्टी पर संकट आया, मैंने झेला है, मैंने तकलीफ उठाई है। मैं इस बार भी तकलीफ सह लूंगी। इस बार भी तकलीफ झेलूंगी। अन्नाद्रमुक ने ट्वीट में कहा कि शशिकला ने हमेशा जयललिता का बोझ अपने उपर लिया है। उन्होंने एक बार फिर ऐसा किया है।

उन्होंने कहा कि धर्म की जीत होगी। मैं इस वक्त मुश्किल से गुजर रही हूं। पहले भी अम्मा जब-जब मुश्किल में आई धर्म की जीत हुई। इस वक्त भी मानती हूं कि धर्म की जीत होगी। फैसले के बाद उन्होंने चेन्नई के रिसॉर्ट में मौजूद विधायकों से बातचीत की।

शशिकला को चार साल की सजा, पूरे घटनाक्रम पर डालें नजर

Posted By: Kamal Verma