नई दिल्ली, जेएनएन। पाकिस्तान ने गुरुवार को छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल गजनवी का परीक्षण किया। इस मिसाइल की पहुंच 290 से 320 किलोमीटर बताई जा रही है। हालांकि, इस मिसाइल का उपयोग सिर्फ जमीन से जमीन पर मार करने के लिए किया जा सकता है। भारत के साथ चल रहे कूटनीतिक तनावों के बीच मिसाइल का परीक्षण कर पाकिस्तान भले ही अपनी ताकत का प्रदर्शन करना चाहता हो, लेकिन मिसाइलों की ताकत में भारत के आगे वह बौना और बेहद कमजोर है।

भारत के पास इस रेंज की चार मिसाइलें हैं। इनमें छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल पृथ्वी-2, पृथ्वी-3, धनुष और छोटी दूरी की क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस शामिल हैं। अगर पाकिस्तान युद्ध छेड़ता है तो भारत की सेनाएं उसे मुंहतोड़ जवाब देंगी। आइए जानते हैं कि भारत और पाकिस्तान की मिसाइल क्षमता और सैन्य ताकत कितनी है।

गजनवी का जवाब है भारत की पृथ्‍वी, अग्नि मिसाइल

पाकिस्‍तानी मिसाइलों का जवाब देने के लिए भारत ने छोटी दूरी से लेकर लंबी दूरी तक की कई मिसाइलें बनाई हैं। इनमें सबसे प्रमुख है पृथ्‍वी, ब्रह्मोस और अग्नि मिसाइल। पृथ्वी-I को फरवरी 1988 में लॉन्च किया गया था। यह जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल है। यह पहली मिसाइल थी जिसे भारत सरकार के आईजीएमडीपी के तहत विकसित किया गया।

इसकी रेंज 150 किलोमीटर है यानी यह 150 किलोमीटर तक मार करने की क्षमता रखती है। यह मिसाइल 1000 किलोग्राम वजन तक के वॉरहेड, बम या अन्य चीजों को अपने साथ ले जा सकती है। 1994 में इसे भारतीय थलसेना में शामिल किया गया। भारत ने पृथ्‍वी-2 मिसाइल भी बनाई जो परमाणु ह‍थियारों के साथ 350 किमी तक मार सकती है।

भारत की मिसाइल ताकत के सामने पाक कमजोर

अग्नि सीरीज के तहत पांच मिसाइलें तैयार की गईं। अग्नि I इस सीरीज की पहली मिसाइल थी। डीआरडीओ ने इसे साल 1983 में लॉन्च किया था। इसकी रेंज 700 किलोमीटर है। यह एक बैलिस्टिक मिसाइल है जो परमाणु बम ले जाने में सक्षम है। अग्नि II मध्यम दूरी की मारक क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल है। 11 अप्रैल, 1999 को पहली बार इसका परीक्षण किया गया था।

यह जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल है। इसकी रेंज 2000 से लेकर 2500 किलोमीटर तक है। यह अपने साथ परंपरागत या न्यूक्लियर वारहेड को ले जाने में सक्षम है। इसके अलावा भारत के पास ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जो 300 क‍िमी से ज्‍यादा दूरी तक मार कर सकती है। इस मिसाइल का पहली बार 12 जून, 2001 को परीक्षण किया गया। भारत और रूस ने मिलकर इसे तैयार किया है। यह दुनिया की सबसे तेज जहाज रोधी क्रूज मिसाइल है।

पाकिस्तान की गजनवी मिसाइल की खासियत

छोटी दूरी तक मार करने वाली गजनवी मिसाइल फ्यूल से चलने वाली मिसाइल है। इस मिसाइल को रेल और सड़क मार्ग से कहीं भी ले जाई जा सकती है। चीन ने M-11 मिसाइल वर्ष 1987 में पाकिस्‍तान को दी थीं। M-11 की तकनीक का इस्‍तेमाल करके पाकिस्‍तान ने गजनवी मिसाइल का निर्माण किया है। रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक भारत को लक्ष्‍य करके बनाई गई यह मिसाइल परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है। बता दें कि पाकिस्‍तान के 130 से 140 परमाणु हथियार हैं।

इसे भी पढ़ें: बुरे दौर से गुजर रहा पाकिस्तान, बिजली कंपनी ने दी इमरान के दफ्तर की कनेक्शन काटने की धमकी

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021