राजौरी, जेएनएन। Surgical Strike2 के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की तरफ से 12 से 15 जगहों पर सीजफायर उल्लंघन किया गया है। मंगलवार रात से पाकिस्तान भारी गोलीबारी कर रहा है। एलओसी(LoC) के पास राजौरी में भारी गोलीबारी में सेना के 6 जवान घायल हो गए हैं। दो जवानों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पाकिस्तान की तरफ से मिसाइल और मोर्टार दागे गए। इसकी पुष्टि पीआरओ डिफेंस लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने की। पाकिस्तान ने जम्मू, पुंछ और राजौरी जिलों में करीब 55 अग्रिम इलाकों में भारतीय चौकियों के साथ रिहायशी क्षेत्रों पर 120 एमएम तक के बड़े गोले दागे। जम्मू की अखनूर तहसील के केरी बट्टल सेक्टर में जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फेंटरी के छह जवान घायल हो गए।

जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान को भारी नुकसान
भारत की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की पांच चौकियां तबाह हुई हैं। इसमें पांच से सात पाकिस्तानी रेंजर्स के मारे जाने की सूचना है। जम्मू से लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा के पार पाकिस्तानी सेना द्वारा रेंजर्स को पीछे कर मोर्चा संभालने के बाद भारतीय सेना भी अरनिया व साथ लगते कुछ इलाकों में आगे आ गई है।

ये जवान हुए घायल
उधर, नियंत्रण रेखा से पांच किमी के दायरे में आने वाले सभी स्कूल बुधवार को बंद रहेंगे। अखनूर के केरी बट्टल सेक्टर में पाकिस्तान द्वारा दागे गए मोर्टार की चपेट में आने से घायल छह जवानों में से दो की हालत गंभीर व चार मामूली रूप से घायल हैं। घायलों की पहचान ज्योतिष यादव, राहुल कुमार यादव, त्रिदिप देयोरी, अजरुद्दीन और अजय सिंह के रूप में हुई है 

मंगलवार को वायुसेना ने पाकिस्तान को सिखाया सबक
बता दें कि भारतीय वायुसेना ने मंगलवार अलसुबह करीब 3.30 बजे पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मुहम्मद के ठिकानों को निशाना बनाया था। वायुसेना के 12 मिराज-2000 विमानों ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से लेकर अंदरूनी प्रांत खैबर पख्तुनख्वा के बालकोट में स्थित आतंकी संगठनों जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए- तोएबा और हिजबुल मुजाहिदीन के कैंपों को तबाह कर दिया था। इस कार्रवाई में जैश का रिश्तेदार यूसुफ अजहर और उसका भाई के मारे जाने का दावा भी किया गया।

जैश को भारी नुकसान
गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना ने 1971 के युद्ध के बाद पहली बार पाकिस्तान में घुसकर हवाई हमले किए। इससे पुलवामा हमले की जिम्मेदारी लेने वाले जैश-ए- मोहम्मद को भारी नुकसान हुआ है। बालकोट शहर से 20 किमी दूर जंगल में एक पहाड़ी पर बने पांच सितारा रिसॉर्टनुमा उसके सबसे बड़े कैंप पर जैसे ही मिराज विमानों ने 1000 किलो के लेजर गाइडेड बम गिराए वह मलबे के ढेर में तब्दील हो गया।

वहां जैश के 325 आतंकी और 25 से 27 ट्रेनर मारे गए। यहां 500 से 700 आतंकियों के रहने के इंतजाम थे। भारत के बदले की कार्रवाई की आशंका के कारण जैश ने हाल ही में पीओके स्थित कैंपों से आतंकियों को यहां शिफ्ट किया था। रिसॉर्टनुमा कैंप में आतंकियों के लिए स्वीमिंग पुल, रसोइये व सफाईकर्मियों का भी इंतजाम था।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस