गगन कोहली, राजौरी। कश्मीर में उड़ी के तंगडार सेक्टर में भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान सुधर नहीं रहा है। रविवार की शाम से भले ही पाकिस्तानी सेना ने अपनी बंदूकों को खामोश कर दिया हो, लेकिन सूत्र बताते हैं कि पाकिस्तानी सेना ने अपनी तोपों को एलओसी के करीब तैनात करने का काम शुरू कर दिया है। टैंकों को भी सीमा की तरफ बढ़ाया जा रहा है।

इतना ही नहीं, सोमवार को ही उसने एलओसी पर अपने जवानों की संख्या को भी बढ़ा दिया है। भारतीय सेना द्वारा की गई बड़ी कार्रवाई के बाद पाक सेना और खुफिया एजेंसी में बौखलाहट साफ नजर आ रही है। इसलिए वह किसी बड़ी नापाक हरकत करने की तैयारी में जुट गए हैं। सूत्रों का कहना है कि पाक सेना सैन्य शिविर समेत रिहायशी क्षेत्र को निशाना बनाकर गोलाबारी कर सकती है। सूत्रों का कहना है कि पाक सेना के उच्च अधिकारियों और आइएसआइ के अधिकारियों ने एलओसी का दौरा किया है।

इन अधिकारियों ने एलओसी पर तैनात जवानों व अधिकारियों के साथ काफी लंबी बातचीत की और कई दिशा निर्देश जारी किए। पाक सेना की तेज हुई हलचल के कई संदेश भी भारतीय खुफिया एजेंसी ने पकड़े है जिनमें किसी बड़े हमले का जिक्र किया जा रहा है। अनुच्छेद 370 और 35ए के हटने के बाद से ही पाक हर मोर्च पर कश्मीर के मुद्दे को लेकर विफल साबित हो चुका है। इसलिए वह आतंकियों को कश्मीर में दाखिल करवाकर हालात को खराब करने का प्रयास कर रहा है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 हटाए जाने से पाकिस्‍तानी सेना और आईएसआई में बौखलाहट है। इस मसले पर दुनिया के किसी बड़े मुल्‍क का साथ नहीं मिलने से हताश पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर 77 दिनों में 300 से अधिक बार सीज फायर तोड़ा है। असल में पाकिस्‍तान इस गोलीबारी की आड़ में सर्दियां शुरू होने से पहले कश्‍मीर में आतंकियों की घुसपैठ करना चाहता है। हालांकि, भारतीय सेना की मुस्‍तैदी से वह अपने इस मकसद में कामयाब नहीं हो पा रहा है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप