नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। ऑक्सीजन की आपूर्ति लगभग सामान्य होने की ओर है। मात्र बीस दिन में देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति में 4,511 टन की बढ़ोतरी हुई है। ऑक्सीजन के उत्पादन और ढुलाई क्षमता में बढ़ोतरी से यह संभव हो पाया है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, गत 15 अप्रैल को देश के विभिन्न अस्पतालों को 4,783 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई जो गत पांच मई को 9,294 टन के स्तर पर पहुंच गई। सात मई को 8415 टन की आपूर्ति रही तो आठ मई को 8,900 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई।

ऑक्सीजन आपूर्ति की निगरानी कमेटी के मुताबिक लगभग 1,500 टन ऑक्सीजन रोजाना ट्रांजिट पर होती है या उसे अनलोड नहीं किया जा पाता। ऑक्सीजन सप्लाई के लिए गठित सशक्त समूह के अध्यक्ष गिरधर अरमाने ने आश्वासन दिया है कि हर जरूरतमंद मरीज को ऑक्सीजन मिलेगी।

ऑक्सीजन के उत्पादन में प्रतिदिन 1,000 टन क्षमता की बढ़ोतरी

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले एक महीने में ऑक्सीजन के उत्पादन में प्रतिदिन 1,000 टन से अधिक की बढ़ोतरी हुई है। इस साल 21 अप्रैल को ऑक्सीजन का उत्पादन 8,419 टन का था जो गत छह मई को बढ़कर 9,446 टन हो गया। ऑक्सीजन उपलब्धता में बढ़ोतरी के लिए सरकार ने पिछले महीने 50,000 टन ऑक्सीजन आयात के लिए टेंडर निकाला था। इनमें से 5,800 टन ऑक्सीजन के आयात के लिए अंतिम आर्डर दे दिया गया है। कुछ आयातित ऑक्सीजन की डिलीवरी भी शुरू हो गई है। देश के कई पीएसयू भी ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता में बढ़ोतरी करने जा रहे हैं जिसके परिणाम अगले एक-दो महीने में दिखने लगेंगे।

उचित आपूर्ति की व्यवस्था

जरूरत के हिसाब से ऑक्सीजन की उचित आपूर्ति के लिए ऑक्सीजन ढोने वाले टैंकर की संख्या में बढ़ोतरी की गई ताकि रोजाना होने वाली ढुलाई की क्षमता बढ़ाई जा सके। आयात व घरेलू स्तर पर प्रयास के जरिए अब ऑक्सीजन की ढुलाई के लिए 1,681 टैंकर उपलब्ध हैं जिनकी क्षमता 23,000 टन की है।

इनमें आयातित टैंकर से लेकर नाइट्रोजन व आर्गन के वे टैंकर भी शामिल हैं जिन्हें ऑक्सीजन ढुलाई के अनुरूप बनाया गया है। पिछले महीने ऑक्सीजन ढुलाई के लिए टैंकर उपलब्ध नहीं होने से भी ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रभावित हो रही थी।

मई में 9,800 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स यूनिट की स्थापना

इस साल 27 अप्रैल को पीएम केयर फंड से एक लाख ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स लगाने की इजाजत दी गई और इनमें से 9,800 यूनिट के लिए आर्डर को अंतिम रूप दे दिया गया है। 4,800 यूनिट की डिलीवरी इस साल 15 मई को हो जाएगी तो 5,000 यूनिट की डिलीवरी आगामी 27 मई को होगी। बाकी के टेंडर की प्रक्रिया जारी है। जबकि पीएम केयर्स फंड से लगाए जा रहे सभी 1051 पीएसएस ऑक्सीजन प्लांट अगले तीन महीने में काम करना शुरू कर देंगे।

Edited By: Neel Rajput