इंफाल, पीटीआइ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि भारत में पर्व, उत्सव मनाने का इतिहास रहा है। इनके जरिये न सिर्फ संस्कृति समृद्ध होती है, बल्कि स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी बहुत ताकत मिलती है। मणिपुर के 'संगई महोत्सव' के समापन दिवस पर प्रधानमंत्री ने वीडियो संदेश में कहा कि मणिपुर इतने प्राकृतिक सौन्दर्य, सांस्कृतिक समृद्धि और विविधता से भरा राज्य है कि हर कोई यहां एक बार जरूर आना चाहता है।

मणिपुर में होते हैं मिली इंडिया के दर्शन

उन्होंने कहा, 'जैसे अलग-अलग मणियां एक सूत्र में एक सुंदर माला बनाती हैं, मणिपुर भी वैसा ही है। इसीलिए, मणिपुर में हमें मिनी इंडिया के दर्शन होते हैं। 'संगई' जैसे त्यौहार स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देते हैं, और निवेशकों के साथ-साथ उद्योगों को भी आकर्षित करते हैं। मुझे विश्वास है कि यह क्षेत्र के विकास का प्रवेश द्वार बनेगा।'

पीएम ने की मणिपुर सरकार की सराहना

मालूम हो कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो सालों में संगई महोत्सव का आयोजन नहीं हो सका था। मोदी ने व्यापक दृष्टि और भव्य तरीके से महोत्सव के आयोजन के लिए मणिपुर सरकार की भी सराहना की। मोदी ने कहा कि इस बार का आयोजन पहले से और भी अधिक भव्य स्वरूप में सामने आया है जो मणिपुर के लोगों की भावना और उनके जज्बे को दिखाता है।

मणिपुर का राजकीय पशु है संगई

उन्होंने कहा, 'जब हम प्रकृति, जानवरों, पौधों और पेड़ों को अपने त्योहारों का हिस्सा बनाते हैं तो सह-अस्तित्व भी हमारे जीवन का हिस्सा बन जाता है।' मालूम हो कि 'संगई' मणिपुर का राजकीय पशु है।

यह भी पढ़ें- Fact Check: राहुल गांधी ने नहीं दिया महिलाओं को लेकर ये आपत्तिजनक बयान, आधी-अधूरी क्लिप वायरल

यह भी  पढ़ें- खास बातचीतः फियो डीजी अजय सहाय के अनुसार भारत अपनी शिपिंग लाइन खड़ी करे तो हर साल 25 अरब डॉलर रेमिटेंस बचेगा

Edited By: Sonu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट