मुंबई, मिड-डे। इंद्राणी मुखर्जी के ड्राइवर रहे श्यामवर राय का कहना है कि शीना बोरा हत्याकांड में शामिल होना उसे थोड़ा गलत लग रहा था। लेकिन, इंद्राणी मुखर्जी ने उसे आश्वस्त किया था कि उसका काम सिर्फ कार ड्राइव करना होगा।

शुक्रवार को इंद्राणी मुखर्जी के वकील सुदीप पसबोला सीबीआइ अदालत में श्यामवर राय से जिरह कर रहे थे। उसने बताया कि पहली बार इंद्राणी मुखर्जी की स्काइप पर आई कॉल के बाद वह इस साजिश का हिस्सा बना था। उसने कहा कि इंद्राणी से उसे करीब 1.25 लाख रुपये मिले थे। कुछ उसके खाते में जमा कराए गए थे जबकि कुछ नकद मिले थे।

श्यामवर ने कहा कि 2012 से 2015 के बीच उसे कई बार इस बात के लिए अफसोस हुआ, लेकिन इंद्राणी के निर्देश के मुताबिक, उसने इस बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। पुलिस को इस बारे में बताने का खयाल भी उसके दिमाग में नहीं आया, जबकि एक पुलिस अधिकारी सुहैल बुद्धा को वह जानता था। सुहैल ने ही उसे इंद्राणी मुखर्जी से मिलवाया था। श्यामवर ने बताया कि हत्याकांड के बाद मिखाइल बोरा, काजल शर्मा, प्रदीप बाघमारे और राहुल मुखर्जी समेत किसी ने भी उससे शीना बोरा के बारे में कोई पूछताछ नहीं की।

यह भी पढ़ें: शीना बोरा मर्डर केस के महत्वपूर्ण गवाह इंद्रानी के ड्राइवर ने दिया ये अहम बयान

Posted By: Tilak Raj