नई दिल्ली, प्रेट्र। उड़ी में हुए आतंकी हमले की प्रतिक्रिया में सरकार फिलहाल ऐसा कोई बड़ा कदम नहीं उठाने जा रही है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, भारत दुश्मन पर सीधे कार्रवाई की जगह उसके अन्य विकल्पों के बारे में मंथन कर रहा है।

सरकार के शीर्षस्तरीय सूत्रों का कहना है, रविवार को उड़ी में आर्मी ब्रिगेड हेडक्वार्ट्स पर पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों की तरफ से किए गए हमले में शहीद हुए 18 भारतीय सैनिकों के बाद भी भारत उसके जवाब में कोई फौरन प्रतिक्रिया देने के मूड में नहीं है। सूत्रों के मुताबिक, कार्रवाई तभी की जाएगी जब योजना, आपसी समन्वय और अन्य विकल्प आजमा लिए जाएं। इसके साथ ही, इस बात के लिए सभी को अपने विश्वास में ले लिया जाएगा।

पढ़ें- कश्मीर पर पाकिस्तान की पीएम नवाज शरीफ ने पी-5 देशों को लिखा पत्र

विदेश राज्यमंत्री वी.के. सिंह ने भी सरकार की इस सोच का समर्थन करते हुए कहा कि कोई भी कार्रवाई किसी भी प्रभाव में आकर या फिर इमोशंस या गुस्से में नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा, “सेना को काफी करीब से देखा है, ऐसे में मैं यह महसूस करता हूं कि इस बात का विश्लेषण करने की जरूरत है कि आखिर वहां हुआ क्या है? इस बात की जांच होनी चाहिए कि कैसे यह घटना घटी और उसमें कमी क्या रही?”


वी.के. सिंह ने आगे कहा, “सेना की तरफ से सावधानी रखने की काफी आवश्यकता है। कश्मीर स्थिति को लेकर ये सब सोचने की जरूरत है। इसलिए, किसी भी तरह की कार्रवाई बिना किसी एमोशंस या गुस्से में आकर नहीं लिया जाना चाहिए।”

पढ़ें- उड़ी हमले के बाद पाक सेना में भी हलचल, जनरल ने की आपात बैठक

Posted By: Rajesh Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप