नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के योग दिवस कार्यक्रम से अनुपस्थिति पर भाजपा महासचिव राम माधव के बयान के लिए सोमवार को सरकार ने माफी मांग ली। सरकार ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि उपराष्ट्रपति को प्रोटोकॉल मुद्दे के कारण आमंत्रित नहीं किया गया था। कांग्रेस ने सोमवार को इस मुद्दे को लेकर सत्तारूढ़ भाजपा पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगाया।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर राजपथ पर इस कार्यक्रम का आयोजन करने वाले आयुष मंत्रालय के राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने कहा है कि अनजाने में कुछ हुआ है। हम लोग उसके लिए माफी मांगते हैं। इससे बचा जाना चाहिए था। यह गलती है राम माधव भी इससे सहमत हैं। उन्होंने माफी मांग ली है। उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया है। नाइक ने कहा कि इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रधानमंत्री थे। राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति को प्रोटोकॉल के हिसाब से आमंत्रित नहीं किया जा सकता था क्योंकि दोनों श्रेष्ठता में प्रधानमंत्री से ऊपर है। इसी वजह से हमलोगों ने उन्हें निमंत्रण नहीं भेजा।

सरकार की ओर से आए इस स्पष्टीकरण के बाद उपराष्ट्रपति कार्यालय ने कहा है कि उसके लिए यह मामला खत्म हो गया है क्योंकि मंत्री का बयान तर्क संगत लगता है। हालांकि, कांग्रेस सरकार के स्पष्टीकरण संतुष्ट नहीं है। उसने कहा कि योग दिवस पर उपराष्ट्रपति पर निशाना साधने जैसे काम से पता चलता है कि भाजपा ने विभाजनकारी राजनीति किया। पार्टी प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने संवाददाताओं से बातचीत में यह आरोप लगाते हुए राम माधव से माफी मांगने की मांग की।

राम माधव ने इस विवाद पर कहा कि जहां तक ट्वीट का सवाल है उसे वापस ले लिया गया है और उनकी ओर से मामला समाप्त है। इस मुद्दे पर और कोई बात नहीं हुई है। माधव ने ट्वीट कर रविवार को उपराष्ट्रपति अंसारी के योग कार्यक्रम में नहीं आने और उनके नियंत्रण वाले राज्यसभा टीवी में इस कार्यक्रम को बिल्कुल नहीं दिखाने पर सवाल उठाया था।

इस बीच, भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने प्रधानमंत्री मोदी पर परोक्ष हमला करते हुए कहा है कि योग में पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं का योगदान रहा है। यह एक बहुत पुरानी अवधारणा है।

यह निश्चित रूप से बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सोच को दिखाता है कि किस तरह वे लोग समाज को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। राम माधव भाजपा में संघ के ही प्रतिनिधि हैं।
-शकील अहमद, कांग्रेस महासचिव

विवाद उत्पन्न नहीं करना चाहता : राम माधव

जागरण ब्यूरो, जम्मू : भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव का कहना है कि वह अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के गैर हाजिर रहने के मुद्दे पर कोई विवाद उत्पन्न नहीं करना चाहते। वह चाहते हैं कि इस दिवस को करोड़ों लोग यादगार दिवस के तौर पर याद करें। यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि वह अब इस पर कोई भी विवाद नहीं चाहते। उन्हें पता चला है कि हामिद अंसारी का स्वास्थ्य ठीक नहीं था। यह पूछे जाने पर कि उपराष्ट्रपति को क्यों नहीं बुलाया गया था, राम माधव का कहना था कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं। जहां तक ट्वीट की बात है, उन्होंने इसे हटा लिया है और अब कोई भी मुद्दा नहीं रहा।

पढ़ेंः मोदी के नेतृत्व में पूरी दुनिया योगपथ पर...

Edited By: Sachin k