मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पटना। एतिहासिक गांधी मैदान शुक्रवार को एक और बड़ी राजनीतिक घटना का साक्षी बना। महात्मा गांधी की विराट प्रतिमा के साये में दो सटे विशाल मंचों पर देश भर के सियासी सितारों का जमघट। हर तरफ जनोल्लास। भव्य माहौल में नीतीश कुमार ने 28 मंत्रियों के साथ पांचवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

इनमें जदयू और राजद के 12-12 तथा कांग्रेस के चार मंत्री शामिल हैं। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के दोनों पुत्रों (तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव) को मंत्री बनाया गया है। छोटे तेजस्वी को उप मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दी गई है।

क्लिक कर पढ़ें - नीतीश ने बांटे मंत्रियों में विभाग

बिहार विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत के साथ वापस लौटे नीतीश ने बिहार के 34वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। वह खुद पांचवीं बार मुख्यमंत्री बने हैं। राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। दोपहर ठीक दो बजे शुरू हुए शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी करीब तीन बजे पहुंचे।

शेष अतिथि दो बजे से पहले ही मंच पर आ गए। इनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सहित आठ राज्यों के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, पार्टी अध्यक्ष तथा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा भी शामिल थे।

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव तथा यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इस जुटान से दूर रहे। पूर्व भाजपा अध्यक्ष एवं केंद्रीय संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू के अलावा प्रदेश भाजपा के दो वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी और नंद किशोर यादव शपथ समारोह में शामिल हुए। समारोह करीब सवा घंटे में संपन्न हुआ। इस दौरान माहौल खूब खुशनुमा रहा। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने राहुल गांधी को जहां गले लगाया, वहीं अरविंद केजरीवाल का भी हाथ थामकर फोटोग्राफरों को पोज दिए।

अधिकतम 36 सदस्यों वाले मंत्रिमंडल में फिलहाल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित 29 मंत्री शामिल किए गए हैं। राजद कोटे के चार, जदयू कोटे के दो तथा कांग्रेस कोटे के एक मंत्री का स्थान अभी रिक्त छोड़ दिया गया है। लालू के दोनों पुत्रों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ठीक बाद शपथ ली। पहले छोटे बेटे तेजस्वी की शपथ हुई, फिर बड़े बेटे तेज प्रताप की। इस अवसर पर लालू का पूरा परिवार मौजूद था।

शपथ ग्रहण करने वालों में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी, जदयू कोटे के राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह तथा कांग्रेस कोटे के मदन मोहन झा विधान परिषद सदस्य हैं। नीतीश के पिछले मंत्रिमंडल के कद्दावर मंत्री विजय चौधरी को मंत्री नहीं बनाया गया।

उन्हें विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की संभावना है। इसी प्रकार पिछले मंत्रिमंडल के सदस्य रहे पीके शाही, नरेंद्र नारायण यादव, लेसी सिंह, बीमा भारती, विनोद यादव और डॉ. रंजू गीता को भी फिलहाल मंत्री नहीं बनाया गया। मंत्रिमंडल में सिर्फ दो महिलाएं स्थान पा सकीं। ये जदयू की मंजू वर्मा तथा राजद की अनीता देवी हैं।

मंत्रिमंडल

1. नीतीश कुमार - मुख्यमंत्री, सामान्य प्रशासन, गृह, निगरानी, निर्वाचन, सूचना एवं जनसंपर्क, ऐसे सभी विभाग जो किसी अन्य के पास न हों

2. तेजस्वी प्रसाद यादव-उप मुख्यमंत्री, पथ निर्माण, भवन निर्माण, पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण

3. तेजप्रताप यादव- स्वास्थ्य, लघु जल संसाधन, पर्यावरण एवं वन

4. अब्दुल बारी सिद्दीकी- वित्त

5. बिजेंद्र प्रसाद यादव- ऊर्जा, वाणिज्य कर

6. राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह- जल संसाधन, योजना एवं विकास

7. अशोक चौधरी- शिक्षा एवं सूचना प्रौद्योगिकी

8. श्रवण कुमार- ग्रामीण विकास, संसदीय कार्य

9. जयकुमार सिंह- उद्योग, विज्ञान एवं प्रावैधिकी

10. आलोक मेहता- सहकारिता

11. चंद्रिका राय- परिवहन

12. अवधेश कुमार सिंह- पशु एवं मत्स्य संसाधन

13. कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा- लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण, विधि

14. महेश्वर हजारी- नगर विकास एवं आवास

15. अब्दुल जलील मस्तान-निबंधन, उत्पाद एवं मद्य निषेध

16. रामविचार राय- कृषि

17. शिवचंद्र राम- कला संस्कृति एवं युवा

18. डॉ. मदन मोहन झा- राजस्व एवं भूमि सुधार

19. शैलेश कुमार- ग्रामीण कार्य

20. कुमारी मंजू वर्मा- समाज कल्याण

21. संतोष कुमार निराला- अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण

22. अब्दुल गफूर- अल्पसंख्यक कल्याण

23. चंद्रशेखर- आपदा प्रबंधन

24. खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद- गन्ना उद्योग

25. मुनेश्वर चौधरी- खान एवं भूतत्व

26. मदन सहनी- खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण

27. कपिलदेव कामत-पंचायती राज

28. अनिता देवी- पर्यटन

29. विजय प्रकाश- श्रम संसाधन

किस जाति के कितने मंत्री

यादव : 7

मुस्लिम : 4

महादलित : 4

अति पिछड़ा : 3

कुशवाहा : 3

कुर्मी : 2

राजपूत : 2

ब्राह्मïण : 1

भूमिहार : 1

दलित : 1

ऐतिहासिक क्षण के गवाह बने अतिथि

राहुल गांधी (कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष)

एचडी देवगौड़ा (पूर्व प्रधानमंत्री)

लालू प्रसाद यादव (राजद प्रमुख)

शरद यादव (जदयू अध्यक्ष)

राबड़ी देवी (पूर्व मुख्यमंत्री)

शरद पवार (राकांपा अध्यक्ष)

चौधरी अजीत सिंह (रालोद अध्यक्ष)

केसी त्यागी (जदयू प्रवक्ता)

फारूख अब्दुल्ला (जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री)

उमर अब्दुल्ला (जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री)

सीताराम येचुरी (माकपा महासचिव)

बाबूलाल मरांडी (झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री)

हेमंत सोरेन (झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री)

मल्लिकार्जुन खडग़े (कांग्र्रेस नेता)

शीला दीक्षित (दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री)

एम स्टालिन (डीएमके प्रमुख करुणानिधि के पुत्र)

प्रफुल्ल कुमार महंत (असोम के पूर्व मुख्यमंत्री)

जयंत चौधरी (रालोद नेता)

सुखबीर बादल (पंजाब के उप मुख्यमंत्री)

शंकर सिंह बघेला (कांग्र्रेस के नेता)

अजीत जोगी (छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री)

प्रफुल्ल पटेल (पूर्व केंद्रीय मंत्री)

अभय चौटाला (रालोद नेता)

राम जेठमलानी (पूर्व केंद्रीय मंत्री)

प्रदीप यादव (पूर्व मंत्री, झारखंड)

राजग

वेंकैया नायडू (केंद्रीय मंत्री)

सुशील कुमार मोदी (भाजपा)

जीतन राम मांझी ( बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री)

सरयू राय (झारखंड के मंत्री)

रामदास कदम (महाराष्ट्र में शिवसेना के मंत्री)

सुभाष देसाई (महाराष्ट्र में शिवसेना के मंत्री)

मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी (पश्चिम बंगाल)

अरविंद केजरीवाल (दिल्ली)

वीरभद्र सिंह (हिमाचल प्रदेश)

तरुण गोगोई (असोम)

पीके चामलिंग (सिक्किम)

ओमान चंडी (केरल)

आइबोबी सिंह (मणिपुर)

सिद्धारमैया (कर्णाटक)

Posted By: Pradeep Kumar Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप