मुंबई, (मिड डे)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नीरव मोदी को हांगकांग और मेहुल चोकसी को अमेरिका से लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। ये दोनों पंजाब नेशलन बैंक (पीएनबी) घोटाले से संबंधित मनी लांड्रिंग मामले में आरोपी हैं। सूत्रों ने कहा कि दोनों की स्थिति की कमोवेश पुष्टि हो गई है और उन्हें वापस लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। एजेंसी के सूत्रों के अनुसार कोर्ट ने आग्रह पत्र जारी कर दिया है और इसे विदेशी अदालतों को भेज दिया जाएगा।

नीरव मोदी के लिए योजना

सूत्रों ने कहा कि आरोपी के खिलाफ अदालत द्वारा जारी गैर जमानती वारंट का इस्तेमाल उसे वापस लाने में किया जा सकता है। हांगकांग में भगोड़ा कानून लागू है जिसके तहत राष्ट्रमंडल देश में जिस आदमी के खिलाफ मुकदमा दर्ज है उसे संबंधित देश वापस ले सकता है। मोदी के खिलाफ इस कानूनी विकल्प का इस्तेमाल करने की संभावना तलाशी जा रही है।

चोकसी के लिए यह कदम उठा सकती है एजेंसी

नीरव मोदी का साझीदार और उसका मामा मेहुल चोकसी अमेरिका में है। सूत्रों ने कहा कि अमेरिका के साथ 1999 से भारत का प्रत्यर्पण संधि है। मामले की जांच करने वाली एजेंसियां अमेरिकी कोर्ट में उसके खिलाफ मामला रख सकती है।

मामला और जांच

सीबीआइ ने मोदी और चोकसी एवं अन्य आरोपियों के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए हैं। अन्य आरोपियों में से 19 को गिरफ्तार किया जा चुका है। ईडी ने मनी लांड्रिंग रोकथाम अधिनियम के तहत एक मामला दर्ज किया है। ईडी ने अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया है, लेकिन एजेंसी ने 6000 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति, बैंक खाते और शेयर जब्त किए हैं।

विपुल अंबानी ने गिरफ्तारी को चुनौती दी

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की कंपनी के वरिष्ठ कर्मचारी विपुल अंबानी ने बांबे हाई कोर्ट में अपनी गिरफ्तारी को चुनौती दी है। सीबीआइ ने पिछले महीने अंबानी को पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में गिरफ्तार किया था। जमानत के लिए मंगलवार को दायर अर्जी में उसने दावा किया है कि एजेंसी ने गिरफ्तारी के समय उचित प्रक्रिया का पालन नहीं किया था। अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक धीरूभाई अंबानी के रिश्तेदार हैं।

सीबीआइ ने एफआइआर में ठगी का आरोप जोड़ा

सीबीआइ ने मंगलवार को मुंबई की एक अदालत से कहा कि हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के फर्म से संबंधित मामले में आपराधिक ठगी का आरोप जोड़ा है। यह मामला पंजाब नेशनल बैंक घोटाला से संबंधित है। जांच एजेंसी ने कहा कि चोकसी नियंत्रित फर्म से संबंधित जालसाजी अब 7,080 करोड़ रुपये तक पहुंच चुकी है।

By Arti Yadav