श्रीनगर (पीटीआई)। कुपवाड़ा हमले की जांच के लिए एनआईए ने मामला दर्ज कर लिया है। सेना द्वारा नाकाम किए गए आतंकियों के इस हमले में तीन आतंकियों को मार गिराया गया था। इसकी जांंच के लिए एनआईए की टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाए थे। इसके अलावा कुछ साक्ष्य आर्मी द्वारा भी जुटाए गए थे। उत्तरी कश्मीर के इस हमले में सबसे बड़ा सबूत आतंकियों के शव भी हैं। लांगेट से करीब 82 किमी दूर हुए इस आतंकी हमले को सुरक्षाबलों की मुस्तैदी से ही नाकाम किया जा सका था।

इस बाबत जांच एजेंसी एनआईए ने सभी तीन आतंकियों के डीएनए सैंपल को भी सुरक्षित रख लिया है। पांच घंटे चली इस मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों को आतंकियों को मारने में कामयाबी हासिल हुई थी। एजेंसी ने इन आतंकियों के पास से जीपीएस सेट, मोबाइल फोन, नक्शे, मेट्रिक्स शीट जिसका इस्तेमाल कोड लैंग्वेज के लिए होता है, जैसी कई अहम चीजें मिली थीं। इन सभी चीजों को एनआईए ने अपनी टेक्निकल टीम को भेज दिया है। इसके अलावा आर्मी को आतंकियों के पास से एके 47 राइफल, हैंड ग्रेनेट, ड्राईफ्रूट्स, दवाइयां और वाकी टॉकी भी मिला था, जिसे उन्होंने जांच एजेंसी को सौंप दिया है।

जांबाज मदन लाल का पार्थिव शरीर पहुंचा तो हजारों नम आंखों ने दी अंतिम विदाई

सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़ी सभी खबरों को पढ़ने के लिए क्लिक करें

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस